गुजरात का पुराना नाम क्या है - History of gujarat in hindi

Post a Comment

गुजरात का पुराना नाम गुर्जरत्रा था। संस्कृत शब्द गुर्जरदेसा से गुजरात शब्द का विकास हुआ है जिसका अर्थ गुर्जरों की भूमि हैं। जिन्होंने 8 वीं और 9वीं शताब्दी सीई में इस क्षेत्र पर शासन किया था।

गुजरात का इतिहास लगभग 2000 साल पुराना है। भारत के पश्चिमी तट पर स्थित गुजरात प्राचीन काल से समृद्ध रहा है। लोथल के खुदाई से पता चलता है कि यह क्षेत्र 3700 ईसा पूर्व में सिंधु घाटी सभ्यता का हिस्सा था। आपको बता दूँ यह सभ्यता उस समय का सबसे विकसित सभ्यता था।

गुजरात आरंभिक इतिहास 

सबसे पहला ज्ञात इतिहास चंद्रगुप्त मौर्य के बारे में है जो इस क्षेत्र में लगभग 294 ईसा पूर्व से 322 ईसा पूर्व के बीच शासन किया करते थे। इसका शासन क्षेत्र जूनागढ़ था। लगभग उसी समय ग्रीक से डेमेट्रियस ने गुजरात में घुसपैठ की लेकिन अपनी सत्ता स्थापित करने में नाकाम रहा। 

महाक्षत्रप रुद्रदामन प्रथम ने कर्दमक वंश की स्थापना की जो भरुच से पंजाब तक फैला था। गुप्त वंश के पतन के बाद सेनापति भट्टारका के पास शासन आ गया। जो एक सेनापति था। जिसने स्वतंत्रता की घोषणा की और 470 ई के आसपास अपना स्वयं का साम्राज्य स्थापित किया। जिसकी राजधानी वल्लभीपुर थी। इसके बाद राजवंश का 475 से 767 ईस्वी तक शासन चला। 8 वीं से 9 वीं शताब्दी ईस्वी तक गुर्जर प्रतिहारों का प्रभुत्व रहा जिसके बाद सोलंकियों ने अधिकार जमा लिया।

राजपूतों ने 960 से 1243 ईस्वी तक गुजरात पर शासन किया। सोलंकियों ने 10 वीं से 13 वीं शताब्दी तक पश्चिमी और मध्य भारत के कुछ हिस्सों पर अपना वर्चस्व स्थापित किया। मूलराज प्रथम ने चावदा वंश को उखाड़ फेंका और अनिलवाद पाटन को अपने अधीन कर लिया। जो बाद में सिद्धपुर शहर के नाम से जाना जाने लगा। उनके शासन में गुजरात कला और वाणिज्य के क्षेत्र में बहुत विकसित हुआ।  

मूलराज प्रथम के उत्तराधिकारि कर्णदेव प्रथम शामिल थे। जिन्होंने 1064 से 1094 ईस्वी तक शासन किया और कोंकण और कर्णावती क्षेत्र को अपने आधीन कर लिया जो आज अहमदाबाद के रूप में जाना जाता है। हालांकि, वह दुशहाल चौहान द्वारा पराजित और मारे गए थे। उनके बेटे सिद्धराज जयसिंह प्रथम ने सिंहासन पर फिर कब्ज़ा कर लिया और सोलंकी वंश के सबसे प्रसिद्ध राजा बन गए।

Related Posts

Post a Comment