सुमित्रानंदन पंत का जीवन परिचय - Sumitranandan Pant

Post Date : 09 February 2021

सुमित्रानंदन पंत का जीवन 

सुमित्रानंदन पंत का जन्म 20 मई 19 को अल्मोड़ा जिले के कौसानी नामक गांव में हुआ था जो कि उत्तराखंड में स्थित है इनके पिताजी का नाम गंगाधरपंत और माताजी का नाम सरस्वती देवी था। 

पंत के जन्म के कुछ ही समय बाद उनकी माता जी का निधन हो गया था। पंत जी का पालन पोषण उसकी दादी जी ने किया पंथ साथ भाई-बहनों में सबसे छोटे थे बचपन में इनका नाम गोसाई दत्त रखा था उनको यह नाम पसंद नहीं आया इसलिए उन्होंने अपना नाम बदलकर सुमित्रानंदन पंत रख लिया सिर्फ 7 साल की उम्र में ही पंत ने कविता लिखना प्रारंभ कर दिया था 

सुमित्रानंदन पंत की शिक्षा और प्रारंभिक जीवन 

पंत जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अल्मोड़ा से पूरी की हाई स्कूल की पढ़ाई के लिए 18 वर्ष की उम्र में अपने भाई के पास बनारस चले गए हाई स्कूल के पढ़ाई पूरी करने के बाद बंद इलाहाबाद गए और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में स्नातक की पढ़ाई के लिए दाखिला लिया सत्याग्रह आंदोलन के समय पंत अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़कर महात्मा गांधी का साथ देने के लिए आंदोलन में चले गए बंद फिर कभी अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर सकते परंतु घर पर ही उन्होंने हिंदी संस्कृत और बंगाली साहित्य का अध्ययन जारी रखा।

1918 के आसपास तक वे हिंदी के नवीन धारा के प्रवर्तक कवि के रूप में पहचाने जाने लगे थे वर्ष 1926 27 में पंत जी के प्रसिद्ध काव्य संकलन पल्लव का प्रसारण हुआ। जिसके गीत सौंदर्य था और पवित्रता का साक्षात्कार करते हैं। कुछ समय बाद वे अल्मोड़ा आ गए। जहां वे मार्क्स और फाइट की विचारधारा से प्रभावित हुए थे। वर्ष 1938 में पंत जी रूपाभ नाम का एक मासिक पत्र शुरू किया। वर्ष 1955 से 1965 तक आकाशवाणी से जुड़े रहे और मुख्य निर्माता के पद पर कार्य किया।

सुमित्रानंदन पंत की रचनाएँ

सुमित्रानंदन पंत की कुछ अन्य काव्य कृतियां हैं ग्रंथि गुंजन गांव में योगदान स्वर्ण किरण स्वर्ण डोली कला और बूढ़ा चांद लोकायन चिदंबरा सत्य काम आदि। उनके जीवनकाल में उनकी 28 पुस्तकें प्रकाशित हुई जिनमें कविताएं पाठ्य नाटक और निबंध शामिल हैं परंतु अपने स्वीकृत समय में एक विचारक दार्शनिक और मानवतावादी के रूप में सामने आते हैं किंतु उनके सबसे कलात्मक कविताएं पल्लव में संकलित हैं जो 1918 से 1924 तक लिखी गई 32 कविताओं का संग्रह है।

पन्तजी को साहित्य अकादमी तथा ज्ञानपीठ पुरस्कार भी प्राप्त हुए। भारत सरकार ने उन्हें पद्मभूषण अलंकार से सम्मानित किया । हिन्दी का यह अलंकार 29 दिसम्बर, 1977 को हिन्दी संसार को सूना कर चला गया। 

रचनाएँ - पन्तजी दीर्घकाल तक सरस्वती की सेवा करते रहे। उनकी निम्नलिखित रचनाएँ सरस्वती के भण्डार के रत्न हैं - (1) पल्लव, (2) युगान्त, (3) ग्राम्या, (4) स्वर्ण किरण, (5) उत्तरा, (6) अतिमा, (7) ग्रन्थि, (8) लोकायतन, (9) कला और बूढ़ा चाँद ।

भाव-पक्ष

प्रकृति प्रेम - पन्तजी की काव्य में प्रकृति के प्रति अपार प्रेम मिलता है। विशेषकर मसृण प्रकृति का मादक चित्र खींचने में पन्तजी कुशल हैं। उदाहरण के लिए उनकी ये पंक्तियाँ देखें -

गिरि का गौरव गाकर झर झर, मद में नस-नस उत्तेजित कर, 
मोती की लड़ियों से सुन्दर, झरते हैं झाग भरे निर्झर

मानवीय भावनाओं की अभिव्यंजना - पन्तजी की काव्य-दिशा हमेशा बदलती रही है। प्रकृति की गोद को छोड़कर उन्होंने युगवाणी को भी स्वर दिया है। युगीन समस्याओं तथा प्रवृत्तियों की भी व्यंजना की है। वे लिखते हैं 

जग पीड़ित है अति सुख से, जग पीड़ित है अति दुःख से,
मानव जग में बँट जाये, सुख-दुख से दुःख-सुख से।

प्रगतिवादी स्वर - पन्तजी प्रगतिवादी काव्य के सूत्रपात करने वाले कवियों में से हैं। प्रगतिवादी विचारधारा की संयत अभिव्यंजना इनकी रचनाओं में मिलती है। युगवाणी काव्य आधुनिकतम विचाराधारा का समर्थक है। 

कला-पक्ष

पन्तजी छायावादी कवि थे। छायावाद का समस्त काव्य-सौन्दर्य इनकी रचनाओं में मिलता है। 

(1) चित्रात्मक वर्णन - पन्तजी चित्रात्मक वर्णन करने में कुशल हैं। डॉ. नगेन्द्र के शब्दों में - कवि की कल्पना इतनी सचेतन और प्रखर है कि प्रत्येक अनुभूति उनके सम्मुख चित्र रूप में आती है और उसको ज्यों का त्यों अनुवाद न करके वायु पर रंगीन रेखाएँ खींच देते हैं।

(2) शब्द चयन तथा ध्वनि साम्य - इनके द्वारा काव्य में मोहक लय तथा प्रभाव उत्पन्न करने में भी कवि को कुशलता प्राप्त है - उदाहरणार्थ

मोती की लड़ियों से सुन्दर, झरते हैं झाग भरे निर्झर।

(3) अलंकार योजना – पन्तजी के काव्य में अन्य अलंकारों के अतिरिक्त अप्रस्तुत योजना एवं मानवीकरण अलंकार का चमत्कार अधिक सुन्दर है। वे अलंकार को केवल वाणी की सजावट नहीं मानते । वे वाणी के हास, अश्रु, स्वप्न, पुलक हाव-भाव हैं। 

इस तरह प्रतीक विधान, मूर्त विधान, कल्पना का उन्मेष, भाषा की तत्समता, रागात्मकता पन्त के की विशेषताएँ हैं।

साहित्य में स्थान

पन्तजी आधुनिक हिन्दी काव्य के मूर्धन्य प्रतिभाशाली कवि हैं तथा आधार स्तम्भ हैं। वे महाकवि हैं। वे प्रकृति के सुकुमार कवि के रूप में सदैव स्मरण किये जायेंगे।