ads

यमुना नदी का उद्गम स्थल - yamuna nadi

यमुना नदी भारत की पवित्र नदियों में से एक हैं लेकिन आज ये नदिया दूषित हो गयी हैं। इसे साफ करने का भी प्रयास किया गया। लेकिन कोई सकारात्मक परिणाम नहीं मिला हैं। 

यमुना नदी का उद्गम स्थल - yamuna nadi
यमुना नदी

नदी मानव सहित अन्य कई जीवो के लिए बहुत मत्वपूर्ण होती हैं। इसी कारण ज्यादातर शहर नदियों के किनारे बसे हैं। यमुना नदी के किनारे बसे प्रमुख शहरो में दिल्ली और आगरा प्रमुख हैं इसके अलावा इटावा, कालपी, हमीरपुर और प्रयाग है।

यमुना नदी का उद्गम स्थल

यमुना गंगा की दूसरी सबसे बड़ी सहायक नदी है। यमुना नदी का उद्गम स्थल उत्तराखंड में यमुनोत्री ग्लेशियर हैं। यह नदी 1,376 किलोमीटर की यात्रा करती है। इसकी 366,223 वर्ग किलोमीटर का जल निकासी व्यवस्था है। जो पूरे गंगा बेसिन का 40.2% हैं।

यमुना नदी त्रिवेणी संगम प्रयागराज में गंगा के साथ विलीन हो जाती है। जहां हर 12 साल में कुंभ मेला का आयोजन किया जाता है। यह कई राज्यों को पार करती है: जिसमे हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दिल्ली शामिल हैं। इसकी प्रमुख सहायक नदिया टोंच और चंबल है।

यमुना नदी गंगा के मैदान में अत्यधिक उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी लती है और यमुना-गंगा दोआब क्षेत्र बनाने में मदद करती है। लगभग 57 मिलियन लोग यमुना के पानी पर निर्भर हैं, और दिल्ली की 70 प्रतिशत से अधिक पानी की आपूर्ति इसी नदी से होती है।

पहले, यमुना का पानी नीले रंग का था, लेकिन आज यमुना को दुनिया की प्रदूषित नदियों में से एक माना जाता है। यमुना भारत की राजधानी नई दिल्ली में विशेष रूप से प्रदूषित है, जो नदी में अपने कचरे का लगभग 58% डालती है। सबसे ज्यादा प्रदूषण वजीराबाद से आता है, जहां से यमुना दिल्ली में प्रवेश करती है।

यमुना नदी प्रदूषण के कारण

घरेलू स्रोत - दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार, शहर में कम से कम 90% घरेलू प्रदूषित जल यमुना में प्रवाहित होता है।

प्रदूषित जल मुख्य रूप से घरेलू गतिविधियों से आता है इसलिए नदी में डिटर्जेंट, कपड़े धोने वाले रसायनों और फॉस्फेट यौगिकों की उच्च सामग्री की उपस्थिति होती है। 

अन्य प्रमुख कारण यह है:

  1. औद्योगिक भारी धातु प्रदूषण। 
  2. मूर्ति विसर्जन प्रदूषण बढ़ाने में सहायक। 
  3. प्लास्टिक प्रदूषण।

यमुना नदी प्रदूषण के उपाय

प्रदूषित पानी को साफ करने का सबसे अच्छा तरीका प्रदूषित पानी को साफ करना नहीं है बल्कि प्रदूषण को रोकना है। नदी में कचड़े और गन्दगी को रोकना बहुत जरुरी है। नहीं तो जितना भी सफाई अभियान चलाया जाये यमुना नदी कभी साफ नहीं हो पायेगी। इसमें शहरो और कारखानों से आने वाले प्रदूषण नदी को सबसे अधिक प्रदूषित करती है।

महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

कालिंदी नदी किस नदी को कहते हैं 

कालिंदी नदी यमुना नदी को कहते हैं क्योंकि यमुना नदी का जल काला दिखाई देता है। कहानी के अनुशार कालिया नाग के विष के कारण यमुना नदी का पानी काला हो गया था। जिसे कृष्ण भगवन ने पराजित कर सिर सागर में भेज दिया था। 

यमुना नदी की लंबाई कितनी है

यमुना नदी बांग्लादेश की मुख्य नदियों में से एक है। यह भारत से बांग्लादेश को बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी की मुख्य धारा है। इसकी कुल लम्बाई 1,376 वर्ग किलोमीटर है। 

Subscribe Our Newsletter