महानदी कहां से निकली है

Post Date : 03 May 2021

महानदी पूर्व मध्य भारत की एक प्रमुख नदी है। यह लगभग 132,100 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में बहती है और इसकी कुल लंबाई 900 किलोमीटर है। महानदी को हीराकुंड बांध के लिए भी जाना जाता है। यह नदी छत्तीसगढ़ और ओडिशा राज्यों से होकर बहती है।

महानदी कहां से निकली है

महानदी धमतरी जिले में स्थित सिहावा पर्वत से निकलती है। राजिम में पैरी और सोढुल नदियों का पानी महानदी से मिलता है। जिसे छत्तीसगढ़ का त्रिवेणी संगम भी कहा जाता है। फिर महानदी की धारा धीरे धीरे इस धार्मिक स्थान से दूर हो जाती है।

कई अन्य मौसमी भारतीय नदियों की तरह, महानदी भी कई पर्वत धाराओं का एक संयोजन है और इस प्रकार इसका सटीक स्रोत इंगित करना असंभव है। हालांकि, छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के सिहावा शहर के दक्षिण में जंगल के घने पैच में, समुद्र तल से लगभग 11 किमी ऊपर 442 मीटर मे इसका उद्गम स्थल है। यहां की पहाड़ियां पूर्वी घाट का विस्तार हैं और कई अन्य धाराओं का स्रोत हैं जो महानदी में शामिल हो जाती हैं।

अपने उरुआत के 100 किलोमीटर तक महानदी उत्तर दिशा में बहती है और रायपुर जिले में पहुचती ती है। इस क्षेत्र मे यह नदी काफी संकरी है और इसकी घाटी की कुल चौड़ाई 500-600 मीटर है।

महानदी का प्राचीन नाम क्या है

प्राचीनकाल में महानदी का नाम चित्रोत्पला था। महानदी शब्द संस्कृत के शब्द महा और नाडी से मिलकर बना है। विभिन्न युगों में इस नदी को कई नामों से जाना जाता था, जैसे:

  • प्राचीन काल – कनकनंदिनी
  • द्वापर युग - चित्रोत्पला
  • त्रेता युग - नीलोत्पला
  • महाभारत युग - महानंदा
  • कलियुग - महानदी

महानदी की सहायक नदी कौन सी है

महानदी छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले से निकलती है और बंगाल की खाड़ी में मिलने से पहले लगभग 851 किलोमीटर तक बहती है। इसकी मुख्य सहायक नदियाँ सियोनाथ, जोंक, हसदेव, मंड, इब, ओंग और तेल हैं।

शिवनाथ नदी पानाबारस पहाड़ी से निकलती है और उत्तर-पूर्व की ओर बहती है। नदी दुर्ग जिले के निवासियों और उद्योगों के लिए महत्वपूर्ण है। शिवनाथ नदी की कुल लंबाई 345 किमी है।

हसदेव नदी की कुल लंबाई 333 किमी है और जल निकासी क्षेत्र 9856 वर्ग किमी है। नदी छत्तीसगढ़ के दक्षिण की ओर बिलासपुर और कोरबा जिलों के माध्यम से बहती है। नदी के किनारे पहाड़ी क्षेत्र, पतले वन क्षेत्र हैं।

यह महानदी की बायीं ओर की सहायक नदी है। नदी के हीराकुंड बांध तक पहुंचने से पहले चंद्रपुर में महानदी मे मिलती है। नदी की कुल लंबाई 241 वर्ग किमी है। यह 5200 वर्ग किमी की सीमा क्षेत्र को पानी प्रदान करता है। मांड नदी बांध का निर्माण छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में किया गया है।

इब यह महानदी की बायीं ओर की सहायक नदी है, छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में पहाड़ियों में उत्पन्न होता है। नदी लगभग 252 किमी की दूरी तक चलती है और 12,447 वर्ग किमी  के क्षेत्र में बहती है। इब नदी घाटी अपनी समृद्ध कोयला पट्टी के लिए प्रसिद्ध है।

ओंग नदी उड़ीसा में बहती है और सोनपुर के 11 किमी अप-स्ट्रीम संबलपुर में महानदी में मिलती है जहां तेल का विलय होता है। यह लगभग 5128 वर्ग किमी के क्षेत्र में जल निकासी करता है।

टेल नबरंगपुर जिले में उत्पन्न यह नदी उड़ीसा के कालाहांडी, बलांगीर और सोनपुर जिलों से होकर बहती है यह उड़ीसा की दूसरी सबसे बड़ी नदी है।

महानदी की लंबाई कितनी है

छत्तीसगढ़ की गंगा कहे जाने वाली महानदी धमतरी से निकलकर दक्षिण से उत्तर की ओर बहती उड़ीसा राज्य से होती हुई बंगाल की खाड़ी में गिरती है। महानदी की कुल लंबाई 851 किलोमीटर है जिसका 286 किलोमीटर छत्तीसगढ़ में है।

महानदी किस प्रदेश की प्रमुख नदी है

महानदी छत्तीसगढ़ और उड़ीसा की प्रमुख नदि है। महानदी छत्तीसगढ़ के सिहावा पर्वत से निकलकर बगल की गाड़ी में गिरती है। उड़ीसा में महानदी पर हीराकुंड बांध का निर्माण हुआ है। जो सिचाई और बिजली निर्माण के कार्य में उपयोगी है। 

महानदी ओडिशा राज्य की एक महत्वपूर्ण नदी है। यह नदी लगभग 900 किलोमीटर तक धीमी गति से बहती है और भारतीय उपमहाद्वीप में किसी भी अन्य नदी की तुलना में अधिक गाद जमा करती है।

कटक और संबलपुर शहर प्राचीन दुनिया में प्रमुख व्यापारिक स्थान थे और टॉलेमी के कार्यों में नदी को ही मानदा के रूप में संदर्भित किया गया है। हालाँकि आज महानदी घाटी अपनी उपजाऊ मिट्टी और समृद्ध कृषि के लिए जानी जाती है।