गुरुत्वाकर्षण किसे कहते हैं - what is gravity

Post Date : 04 May 2021

पृथ्वी पर गुरुत्वाकर्षण भौतिक वस्तुओं को भार देता है, और चंद्रमा का गुरुत्वाकर्षण महासागरों में ज्वार का कारण बनता है। गुरुत्वाकर्षण में कई महत्वपूर्ण जैविक कार्य भी होते हैं, जो गुरुत्वाकर्षण की प्रक्रिया के माध्यम से पौधों के विकास को निर्देशित करने में मदद करते हैं।

गुरुत्वाकर्षण किसे कहते हैं

गुरुत्वाकर्षण एक मौलिक क्रिया है जो सभी चीजों के बीच पारस्परिक आकर्षण का कारण बनती है। गुरुत्वाकर्षण ग्रहों, तारों, आकाशगंगाओं और यहां तक कि प्रकाश की गति को भी निर्धारित करता है।

न्यूटन के अनुशार - ब्रहांड में पदार्थ का प्रत्येक कण दूसरे कण को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस आकर्षण बल को गुरुत्वाकर्षण बल कहते है।

ब्रह्मांड में गैसीय पदार्थ के बीच गुरुत्वाकर्षण आकर्षण के कारण तारों का निर्माण हुआ हैं, जो अंततः आकाशगंगा बनाते हैं। इसलिए गुरुत्वाकर्षण ब्रह्मांड के बड़े संरचनाओं के लिए जिम्मेदार है। गुरुत्वाकर्षण की एक अनंत सीमा है, हालांकि वस्तुओं के दूर जाने पर इसका प्रभाव कम हो जाता है।

गुरुत्वाकर्षण का नियम

गुरुत्वाकर्षण को 1915 में अल्बर्ट आइंस्टीन द्वारा सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत द्वारा सबसे सटीक रूप से वर्णित किया गया है। जो गुरुत्वाकर्षण को बल के रूप में नहीं, बल्कि स्पेस टाइम की वक्रता के रूप में वर्णित करता है। 

स्पेसटाइम की इस वक्रता का सबसे अच्छा उदाहरण ब्लैक होल है, जिसमें से कुछ भी बाहर नहीं आता हैं। यहां तक कि प्रकाश भी नहीं। 

गुरुत्वाकर्षण को न्यूटन ने सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण के नियम द्वारा अच्छी तरह से समझाया है, जो गुरुत्वाकर्षण को एक बल के रूप में वर्णित करता है। जिससे दो पिंड एक-दूसरे की ओर आकर्षित होते है, जिसका परिमाण उनके द्रव्यमान के गुणनफल के समानुपाती होता है और उनके बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता है।

ब्रह्मांड में गुरुत्वाकर्षण का सबसे पहला उदाहरण क्वांटम गुरुत्व , सुपरग्रैविटी या गुरुत्वाकर्षण विलक्षणता हो सकता हैं। वर्तमान में क्वांटम यांत्रिकी के अनुरूप गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत को विकसित करने का काम चल रहा हैं।