सरस्वती नदी लुप्त कैसे हुई

सरस्वती नदी का उल्लेख ऋग्वेद और उत्तर-वैदिक ग्रंथों में मिलता है। ऋग्वेद की चौथी पुस्तक को छोड़कर सभी में इसका वर्णन मिलता हैं।

सरस्वती नदी को ऋग्वेद में उत्तर-पश्चिमी भारत में एक महान और पवित्र नदी के रूप में वर्णित किया गया है, सरस्वती को एक आध्यात्मिक नदी के रूप में पवित्र माना जाता है, जो त्रिवेणी संगम पर गंगा और यमुना के साथ संगम करती हैं।

यदि आप त्रिवेणी संगम में सरस्वती नदी को खोजना चाहोगे तो वह नहीं मिलेगी। कई लोगो का मानना है की ये नदी अदृश्य रूप से बहकर प्रयाग पंहुचती है। वैज्ञानिको का कहना है कि सरस्वती नदी का कहीं कोई अस्तित्व नहीं है और यह केवल मिथ है।

सरस्वती नदी लुप्त कैसे हुई
सरस्वती नदी लुप्त कैसे हुई

यहाँ तक तो ठीक हैं लेकिन कई लोग सरस्वती नदी के अस्तित्व पर संदेह करतें हैं और कहते हैं की वह कभी अस्तित्व में ही नहीं थी।

सरस्वती नदी का उल्लेख बहुत सारे हिंदू शास्त्रों में मिलता है, जिनमें से अधिकांश पौराणिक हैं। इसलिए इसके अस्तित्व पर स्पष्टता भारत के प्राचीन इतिहास और शास्त्रों की विश्वसनीयता को मजबूत करने में भी मदद करेगी।

सरस्वती नदी का उल्लेख करने वाले कुछ ग्रंथ हैं:

  • ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद।
  • ऋग्वेद में नादिस्तुति भजन में पूर्व में यमुना और पश्चिम में सतलुज के बीच सरस्वती का उल्लेख है।
  • महाभारत में उल्लेख है कि सरस्वती मरुस्थल में सूख गई थी।

सरस्वती नदी लुप्त कैसे हुई

यूनेस्को का कहना है कि समुद्र के स्तर में कमी से पहले धोलावीरा की समुद्र तक पहुंच थी। कई वैज्ञानिक जांचों ने भारत में कई भूवैज्ञानिक तकनीकों के आधार पर समुद्र के स्तर के उतार-चढ़ाव पर ध्यान केंद्रित करते हुए संकेत दिया है कि लगभग 6000 बीपी पर, समुद्र का स्तर वर्तमान की तुलना में लगभग 6 मीटर अधिक था। 

तटरेखा में परिवर्तन विभिन्न कारणों से हो सकता है जैसे कि विवर्तनिक गड़बड़ी या तलछटी में बदलाव इसका मतलब है कि यह पूरी तरह से संभव है कि टेक्टोनिक प्लेटों के खिसकने के कारण सरस्वती नदी का स्रोत अवरुद्ध हो गया हो। और उन्हीं कारणों से सरस्वती नदी लुप्त हो गई होगी। मुख्यधारा के इतिहासकार इस बात से सहमत हैं कि सरस्वती नदी के तट पर बस्तियाँ थीं।

Search this blog