सांस्कृतिक विरासत का अर्थ - Meaning of cultural heritage

Post Date : 10 May 2021

हम अक्सर सांस्कृतिक विरासत के महत्व के बारे में सुनते हैं। लेकिन सांस्कृतिक विरासत का अर्थ क्या है आईये जानते हैं। सबसे पहले शब्दों के अर्थ पर एक नज़र डालिये "विरासत" एक संपत्ति है जो पूर्वजो से मिली होती है। यह कुछ भी हो सकता हैं कोई पोशाक आदि। जिसे उस समुदाय के लोग आज भी पहनते हो। 

सांस्कृतिक विरासत एक समुदाय द्वारा दिए गए कला, विज्ञान और शिक्षा है जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्त्रान्तरित किया जाता हैं। अक्सर भारत को विधता वाला देश कहा जाता हैं। क्योकि भारत में कुछ क्षेत्रों के साथ साथ भाषा, रहनसहन और पहनावा में फर्क आसानी से देखा जा सकता हैं। 

और यह सांस्कृतिक विरासत का एक उदहारण हैं। मंदिर प्राचीन गुफा और कई इमारते सांस्कृतिक विरासत की निशानी हैं जिसे सरकार या विश्व धरोहर के रूप में संरक्षित किया जाता हैं। इसके अलावा प्राचीन समय के वास्तु मुर्तिया कलाकृतिया को मयूजिअम में प्रदर्शनी के रूप में रखा जाता हैं। और अपने देख के जनता को उसके बारे में बताया जाता हैं।

सांस्कृतिक विरासत में पैसे या संपत्ति नहीं होती है लेकिन संस्कृति, मूल्यों और परंपरा होते हैं। सांस्कृतिक विरासत का तात्पर्य है एक साझा बंधन, जो हमारे समुदाय से संबंधित है। यह हमारे इतिहास और हमारी पहचान का प्रतिनिधित्व करता है। हमारे अतीत वर्तमान और भविष्य से जुड़ा होता हैं। 

सांस्कृतिक विरासत का अर्थ

सांस्कृतिक विरासत एक समुदाय द्वारा विकसित जीवन जीने के तरीकों की अभिव्यक्ति है और प्रथाओं, स्थानों, वस्तुओं, कलात्मक अभिव्यक्तियों और मूल्यों सहित पीढ़ी से पीढ़ी तक चली आ रही है। सांस्कृतिक विरासत को अक्सर या तो अमूर्त या मूर्त सांस्कृतिक विरासत के रूप में व्यक्त किया जाता है।

मानव गतिविधि के हिस्से के रूप में सांस्कृतिक विरासत मूल्य प्रणालियों, विश्वासों, परंपराओं और जीवन शैली का मूर्त प्रतिनिधित्व करती है। 

सांस्कृतिक विरासत एक विस्तृत अवधारणा है। हम विभिन्न विरासत क्षेत्रों के बीच समानता पर ध्यान केंद्रित करना पसंद करते हैं, बजाय उनके मतभेदों के।

सांस्कृतिक विरासत प्रकार

  1. निर्मित पर्यावरण (भवन, शहर, पुरातात्विक अवशेष)
  2. प्राकृतिक पर्यावरण (ग्रामीण परिदृश्य, तट और तटरेखा, कृषि विरासत)
  3. कलाकृतियाँ (पुस्तकें और दस्तावेज़, वस्तुएँ, चित्र)

मूर्त और अमूर्त सांस्कृतिक विरासत

सांस्कृतिक विरासत अक्सर कलाकृतियों जैसे - पेंटिंग, ड्राइंग, प्रिंट, मोज़ाइक, मूर्तियां, ऐतिहासिक स्मारकों और इमारतों, साथ ही साथ पुरातात्विक स्थल होते है। लेकिन सांस्कृतिक विरासत की अवधारणा उससे भी अधिक व्यापक है, और इसमें मानव रचनात्मकता और अभिव्यक्ति को शामिल किया जाता है। 

तस्वीरें, दस्तावेज, किताबें, पांडुलिपियां, और उपकरण आदि सभी सांस्कृतिक विरासत के अंतर्गत आते हैं।साथ ही प्राकृतिक वातावरण को भी सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा माना जाता है क्योंकि समुदाय प्राकृतिक परिदृश्य के साथ अपनी पहचान रखते हैं।

इसके अलावा, सांस्कृतिक विरासत केवल भौतिक वस्तुओं तक सीमित नहीं है जिसे हम देख सकते हैं और छू सकते हैं। इसमें सार तत्व भी शामिल हैं: परंपराएं, मौखिक इतिहास, प्रदर्शन कला, सामाजिक प्रथाओं, पारंपरिक शिल्प कौशल, प्रतिनिधित्व, अनुष्ठान, ज्ञान और कौशल जो एक समुदाय के भीतर पीढ़ी से पीढ़ी तक संचारित होते हैं।

अमूर्त धरोहर में परंपराओं, संगीत और नृत्यों की एक आकर्षक सरणी शामिल होती है, जैसे टैंगो और फ्लैमेन्को, पवित्र जुलूस, कार्निवल, फाल्कनरी, विनीज़ कॉफ़ी हाउस संस्कृति, अज़रबैजानी कालीन और इसकी बुनाई परंपराएं, चीनी छाया कठपुतली, भूमध्य आहार, वैदिक जप, काबुकी रंगमंच, मध्य अफ्रीका के आका का पॉलीफोनिक गायन आदि।