लाभ किसे कहते हैं?

Post a Comment

राष्ट्रीय आय का वह भाग जो साहसी को उसकी सेवा के बदले दिया जाता है लाभ कहलाता है। कुल उत्पादन में सेल लगान मजदूरी में ब्याज के भुगतान करने के बाद जो कुछ बचता है, वह साहसी को लाभ के रूप में दिया जाता है। इस प्रकार कुल उत्पादन तथा उत्पादन की कुल लागत में जो अंतर होता है वही लाभ है।

लाभ राष्ट्रीय आय का अकेला ऐसा भाग है जो ऋण आत्मक भी हो सकता है। लाभ को निम्न प्रकार से परिभाषित किया गया है स्पीट के अनुसार सामान्यतया: लाभ जोखिम उठाने का भुगतान है। 

लाभ साहस का पुरस्कार है। लाभ का पहले से निश्चित समझौता के अंतर्गत भुगतान नहीं होता। यह एक अवशिष्ट बचत होती है। जो साहसी को उत्पादन के अन्य साधनों के पुरस्कार चुकाने के बाद लाभ के रूप में प्राप्त होती है। लाभ अनिश्चित होता है। लाभ ऋणात्मक भी हो सकता है अर्थात लाभ-हानि के रूप में बदल सकता है। यह जोखिम उठाने अनिश्चितता वाहन करने एवं नए परिवर्तनों को उत्पादन में लागू करने का पुरस्कार होता है।

Related Posts

Post a Comment