महाबलेश्वर कहां है - mahabaleshwar in hindi

Post Date : 19 May 2021

महाबलेश्वर पश्चिमी घाटों की पहाड़ी सह्याद्री श्रेणी पर स्थित है जो भारत के पश्चिमी तट के साथ उत्तर से दक्षिण तक जाती है। महाबलेश्वर 150 किमी 2 का एक विशाल पठार है, जो चारों तरफ घाटियों से घिरा है। समुद्र तल से अधिकतम ऊंचाई 1,439 मीटर है, जिसे विल्सन या सनराइज पॉइंट के नाम से जाना जाता है।

महाबलेश्वर कहां है

महाबलेश्वर महाराष्ट्र राज्य के सतारा जिले में स्थित एक छोटा शहर और एक नगरपालिका परिषद है। यह हिंदुओं के लिए तीर्थ स्थान है क्योंकि कृष्णा नदी का उद्गम यहीं से हुआ है। और कई मदिर और मनोहर दृश्य पर्यटको को आकर्षित करता हैं। 

यह शहर पुणे के दक्षिण-पश्चिम में लगभग 120 किमी और मुंबई से 285 किमी दूर है। महाबलेश्वर में तीन गांव मैल्कम पेठ, महाबलेश्वर और शिंडोला गांव शामिल हैं।

ब्रिटिश औपनिवेशिक शासकों ने शहर को एक हिल स्टेशन के रूप में विकसित किया और यह शहर ब्रिटिश राज के दौरान बॉम्बे प्रेसीडेंसी के लिए ग्रीष्मकालीन राजधानी के रूप में कार्य करता था।

नर्मदा नदी का उद्गम स्थान महाबलेश्वर

महाबलेश्वर क्षेत्र कृष्णा नदी का उद्गम स्रोत है जो महाराष्ट्र, कर्नाटक , तेलंगाना और आंध्र प्रदेश से होकर बहती है। नदी का पौराणिक स्रोत पुराने महाबलेश्वर में महादेव के प्राचीन मंदिर में गाय की मूर्ति के मुंह से निकला है। 

इस नदी का नाम भगवन कृष्ण के नाम पर रखा गया है जो भगवान विष्णु के अवतार थे। इसकी सहायक नदियां वेन्ना और कोयना को स्वयं भगवान शिव और भगवान ब्रह्मा कहा जाता है। गौर करने वाली एक दिलचस्प बात यह है कि कृष्णा के अलावा 3 अन्य नदियाँ गाय के मुँह से निकलती हैं। 

क्षेत्र की जलवायु स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए उपयुक्त है, महाबलेश्वर देश में कुल स्ट्रॉबेरी उत्पादन का लगभग 85 प्रतिशत भाग उत्पादित करता है। इसे 2010 में इसे भौगोलिक जीआई टैग भी मिला था। जीआई टैग उत्पादित वस्तु की भौगलिक स्थिति को दर्शाता हैं।

महाबलेश्वर क्यों प्रसिद्ध है

कभी ब्रिटिश राज के दौरान बॉम्बे की ग्रीष्मकालीन राजधानी, महाबलेश्वर अपनी नदियों, प्राचीन मंदिरों, झरनों, सदाबहार घने जंगलों, आश्चर्यजनक झरनों, राजसी चोटियों और घाटियों के लिए प्रसिद्ध है। यह शहर अपनी घुमावदार सड़कों, स्ट्रॉबेरी फार्मों और पूरे साल सुहावने मौसम के लिए जाना जाता है।

Read Also: महाराष्ट्र की राजधानी क्या है