ads

मानव की परिभाषा - मनुष्य क्या है

किसी व्यक्ति को परिभाषित करने वाली सबसे बड़ी चीज उसका व्यक्तित्व होता हैं। प्रत्येक व्यक्ति में कुछ विशिष्ट लक्षण होते हैं जो उन्हें दूसरों से अलग करते हैं। संख्यात्मक रूप से, व्यक्ति का अर्थ अविभाज्य है, अर्थात एक व्यक्ति एक विलक्षण इकाई है, जो आपको एक व्यक्ति के रूप में परिभाषित करता है। 

जैविक रूप से, हर कोई अद्वितीय है और आप पहले से ही जानते हैं कि बायोमेट्रिक डेटा एक को दूसरे से अलग करता है और इस प्रकार प्रत्येक को अद्वितीय बनाता है।

फिर भी, जो वास्तव में हमें अद्वितीय बनाता है वे हमारे द्वारा चुने गए विकल्प और रास्तें हैं जिसका हम अनुसरण करते हैं। इसलिए, जो आपको एक व्यक्ति के रूप में परिभाषित करता है, वह यह है कि आप वास्तव में खुद को कैसे गढ़ते और परिभाषित करते हैं।

मनुष्य या मानव पृथ्वी पर सबसे शेष्ट जीव है जो अपने बुद्धि से इतना विकाश कर पाया हैं। आज का आधुनिक मानव के करोड़ों सालो के अनुभव से इस अवस्था में पहुंच पाया हैं।

मनुष्य का शरीर एक संरचना है जो अपने अनुभव और ज्ञान को आगे अपनी संतानो में स्थान्तरित करती हैं। 

मानव की परिभाषा - मनुष्य क्या है

अब यह सवाल आता है की मानव की परिभाषा क्या हैं यदि हम मनुष्य को परिभाषित करना चाहे तो वह क्या होगा चलिए।

मानव की परिभाषा 

मानव एक स्तनपायी सर्वाहारी जीव हैं। जो एक समाज में रहता हैं जो कई जाति संप्रदाय और धर्म में बटा हुआ है। मनुष्य की प्रमुख आवश्यकताएं भोजन आवास और शरीर को ढकने के लिए कपडा हैं। मनुष्य प्राणी जगत का सर्वाधिक विकसित जीव है। मनुष्य अपने साथ-साथ प्राकृतिक परिवेश को भी प्रभावित करता हैं। 

Subscribe Our Newsletter