ads

जनगणना से क्या आशय है - jangadna kya hai

जनगणना देश या राज्य के लोगो की संख्या होती हैं। शब्द से हमें पता चल रहा हैं की जन अर्थात लोग और गणना का अर्थ गिनिती से हैं।  

जनगणना एक देश यह स्थान की आबादी के बारे में व्यवस्थित रूप से जानकारी दर्ज करने की प्रक्रिया है। यह शब्द अधिकतर राष्ट्रीय जनसंख्या और आवास जनगणना के संबंध में प्रयोग किया जाता है। अन्य सामान्य जनगणनाओं में कृषि, पारंपरिक संस्कृति, व्यवसाय, आपूर्ति और यातायात जनगणना शामिल हैं। 

जनगणना से क्या आशय है - jangadna kya hai

भारत की जनगणना

अभी तक भारत में 15 बार जनगणना की जा चुकी है। पाहि बार भारत में जनगणना 1872 में ब्रिटिश काल में की गयी थी। 1949 से स्वतंत्र भारत में जनगणना आयुक्त द्वारा कराई जाती है। अंतिम जनगणना 2011 में कराई गई थी। हर दस साल के बाद भारत में जनगणना कराई जाती हैं अब 2021 में जनगणना कराई जाएगी।

भारत में 2011 की जनगणना के अनुशार 125.03 करोड़ की आबादी हैं। जनसंख्या के आधार पर भारत विश्व में दूसरा स्थान रखता हैं। जबकि सबसे अधिक जनसँख्या भारत  पडोसी देश चीन में हैं। अधिक जनसँख्या कभी कभी नुकसान और लाभ दोनों देते हैं। लेकिन अधिक जनसंख्या से हानि अधिक होती हैं। 

जनगणना क्यों आवश्यक है 

भारतीय जनगणना जनसांख्यिकी आर्थिक गतिविधि, साक्षरता और शिक्षा, आवास और घरेलू सुविधाएं, शहरीकरण, प्रजनन क्षमता और मृत्यु दर, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति, भाषा, धर्म, प्रवासन, विकलांगता और कई पर जानकारी का सबसे विश्वसनीय स्रोत होता है। 

1872 से अन्य सामाजिक-सांस्कृतिक और जनसांख्यिकीय डेटा प्राप्त किया जा रहा हैं। 2011 की जनगणना देश की 15वीं राष्ट्रीय जनगणना थी। यह गांव, कस्बे और वार्ड स्तर पर प्राथमिक डेटा का एकमात्र स्रोत है, यह केंद्र और राज्य सरकारों के लिए योजना बनाने और नीतियों के निर्माण के लिए बहुमूल्य जानकारी प्रदान करता है और व्यापक रूप से राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों, विद्वानों, व्यापारियों, उद्योगपतियों और द्वारा उपयोग किया जाता है। 

जनगणना के प्रकार

  1. जनसंख्‍या
  2. जनसंख्‍या घनत्‍व
  3. लिंग अनुपात
  4. साक्षरता

जनगणना के लाभ

जनगणना के परिणाम यह निर्धारित करने में मदद करते हैं कि अगले दशक में सरकार जनसंख्या और साक्षरता के आधार पर निति और विकास के कार्यक्रम कैसे लागु करते हैं। जनगणना से सरकार को अपने जनता के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त होती हैं। जिसके आधार पर सरकार विकास के नियम निर्धारित करता हैं। इससे जन्म दर, लिंगनुपात,  आवास और शिक्षित लोगो के बारे में भी जानकारी प्राप्त होती हैं। 

जनगणना की विशेषताएं

जनगणना की कुछ आवश्यक विशेषताएं इस प्रकार हैं:

1. प्रायोजन: जनगणना करने के लिए विशाल संगठन और काफी संसाधनों की आवश्यकता होती है। जनगणना संगठन को पर्याप्त विधायी अधिकार के साथ व्यापक प्रशासनिक तंत्र को संगठित करना होता है। यह केवल राज्यों और स्थानीय सरकारों के सहयोग से राष्ट्रीय सरकार द्वारा किया जा सकता है।

2. जनसंख्या के आंकड़ों का कोई अर्थ नहीं है जब तक कि वे एक अच्छी तरह से परिभाषित क्षेत्र का उल्लेख न करें। शामिल क्षेत्र की जनगणना परिवर्तन के साथ स्पष्ट होना चाहिए।

3. जनगणना के आंकड़ों की पूर्णता और सटीकता सुनिश्चित करने के लिए बिना किसी चूक या दोहराव के डाटा शामिल किया जाना चाहिए।

4. समकालिकता: गणना की गई कुल जनसंख्या को एक अच्छी तरह से परिभाषित समय बिंदु को संदर्भित करना चाहिए। यह कुल जनसंख्या की सटीक गणना और अवधि के लिए आवश्यक है। 

5. नियमित अंतराल पर जनगणना की जानी चाहिए ताकि तुलनीय जानकारी एक निश्चित क्रम में उपलब्ध हो सके। जनगणना की एक श्रृंखला अतीत का मूल्यांकन करना, वर्तमान का सटीक वर्णन करना और भविष्य का अनुमान लगाना संभव बनाती है।

Subscribe Our Newsletter