ब्राउज़र किसे कहते है - browser kise kahate hain

वेब ब्राउज़र या ब्राउज़र वेबसाइटों तक पहुँचने और देखने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक एप्लिकेशन है। अधिक उपयोग की जाने वाली वेब ब्राउज़र इस प्रकार हैं :-

  • इंटरनेट एक्सप्लोरर
  • गूगल क्रोम
  • मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स
  • ऐप्पल सफारी
  • ऑपेरामिनी

ब्राउज़र किसे कहते है

ब्राउज़र एक एप्लिकेशन प्रोग्राम है जो वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर सभी सूचनाओं को देखने और उनके साथ कॉनेक्ट करने का एक तरीका प्रदान करता है। इसमें वेब पेज, वीडियो और इमेज शामिल होते हैं। 

ब्राउज़र शब्द की उत्पत्ति वेब से पहले यूजर इंटरफेस के लिए किया जाता था। जो आपको टेक्स्ट फाइलों को ऑनलाइन ब्राउज़ करने या नेविगेट और पढ़ने की सुविधा देता है।

ब्राउज़र किसे कहते है - browser kise kahate hain

बहुत से लोग आज इंटरनेट तक पहुंच के लिए वेब ब्राउज़र का उपयोग करते हैं और इसे लगभग एक आवश्यकता के रूप में देखा जाता है। वर्तमान मे करोड़ों लोग इंटरनेट से जुड़े हुए हैं। आप इस पोस्ट को एक वेब ब्राउज़र की सहायता से पढ़ रहे हैं।

वेब ब्राउज़र एक क्लाइंट प्रोग्राम है, जो ब्राउज़र उपयोगकर्ता की ओर से अनुरोध करने के लिए HTTP हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल का उपयोग करता है। 

अधिकांश ब्राउज़र ई-मेल और फ़ाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल एफ़टीपी का समर्थन करते है। लेकिन उन इंटरनेट प्रोटोकॉल के लिए एक वेब ब्राउज़र की आवश्यकता नहीं होती है।

वेब ब्राउज़र इतिहास

वर्ल्ड वाइड वेब नामक पहला वेब ब्राउज़र 1990 में बनाया गया था। बाद मे ब्राउज़र का नाम नेक्सस में बदल दिया गया था। ग्राफिकल यूजर इंटरफेस वाला पहला वेब ब्राउजर मोज़ेक था, जो 1993 में सामने आया। 

मोज़ेक में यूजर इंटरफेस की कई विशेषताएं थी। माइक्रोसॉफ्ट ने अपने इंटरनेट एक्सप्लोरर के साथ ब्राउज़र की दुनिया मे कदम रखा और बहुत सालों तक इसका प्रभुत्व रहा था।

लेकिन गूगल के क्रोम ब्राउज़र आने के बाद क्रोम का उपयोग सबसे अधिक किया जाता हैं। साथ ही यह यूजर फ़्रेंडली और उपयोग मे आसान हैं।

वेब ब्राउज़र सुविधाएँ

अधिकांश वेब ब्राउज़र कुछ महत्वपूर्ण सुविधाएँ प्रदान करते हैं -

1. नेविगेशन बटन

नेविगेशन बटन का उपयोग ब्राउज़िंग के दौरान आगे और पीछे जाने के लिए किया जाता है। यदि आप किसी साइट के होम पेज में हैं, तो आप कॉन्टैक्ट पेज पर जाते हैं। 

 बैक बटन आपको होम पेज पर वापस लाएगा, यदि आप फॉरवर्ड बटन पर क्लिक करेंगे तो यह आपको फिर से कॉन्टैक्ट पेज पर ले जाएगा। नेविगेशन बटन के बगल में एक छोटा तीर सभी ब्राउज़र मे उपलब्ध होते हैं जो बैक और फॉरवर्ड का सार्टकट होता है।

2. होम बटन

सभी वेब ब्राउज़र मे एक पूर्वनिर्धारित होम पेज लोड होता है। आप टूल मेनू पर क्लिक करके और विकल्पों का चयन करके किसी भी पेज को ब्राउज़र के होम के रूप में चुन सकते हैं। जब भी आप ब्राउज़र ओपन करेंगे तो सेट किया गया पेज ओपन होगा।

3. वेब एड्रेस बार

एड्रेस बार का उपयोग वेबसाइट और पेज के नाम लिखने के लिए किया जाता है। एड्रेस बार एक ड्रॉपडाउन मेनू के रूप में काम करता है जो पहले देखी गई सभी साइटों को दिखाता है। एड्रेस बार के अंत में आपको गो बटन मिलेगा, जो बहुत उपयोगी नहीं है क्योंकि केवल एंटर पर क्लिक करने से आपको साइट पर भेज दिया जाता हैं।

4. रिफ्रेश बटन

वेब ब्राउज़र मे वेबपेज को पुनः लोड करने के लिए रिफ्रेश बटन का उपयोग किया जाता है। अधिकांश वेब ब्राउज़र कैशिंग तंत्र का उपयोग करते हैं। जो कभी-कभी अपडेट जानकारी को देखने से रोकता है। रिफ्रेश बटन पर क्लिक करने से पृष्ठ का नवीनतम जानकारी पुनः लोड हो जाता है।

5. स्टॉप बटन

सर्वर के साथ वेब ब्राउज़र के कोनेक्सन को रद्द करने के लिए स्टॉप बटन का उपयोग किया जाता है और पेग का लोड होना बंद हो जाता है। कई वेबसाईट को सर्वर से डाटा लाने मे बहुत समय लगता हैं। इससे बचने के लिए और बैक जाने के लिए स्टॉप बटन का उपयोग किया जाता हैं।

6. बुकमार्क बटन

बुकमार्क बटन से आप कोई भी वेब पेज को चुन सकते हैं। और बिना सर्च किए बुकमार्क मे जाकर उस वेबसाईट पर पहुच सकते हैं। यह अधिक उपयोग की जाने वाली वेब साइट के लिए उपयोगी होती हैं। यदि आपफेसबुक का अधिक उपयोग करते हैं तो उसे बुकमार्क कर सकते है। और डारेक्ट फेसबुक पर जा सकते हैं।

7. प्लग-इन

कई ब्राउज़र प्लग-इन भी प्रदान करते हैं, जो ब्राउज़र की क्षमताओं का विस्तार करते हैं। ये प्लग-इन उपयोगकर्ताओं को, उदाहरण के लिए, सुरक्षा सुविधाओं को जोड़ने जैसे कार्यों का उपयोग करने की अनुमति देता हैं।

वेब ब्राउज़र कैसे काम करता है

वेब ब्राउज़र क्लाइंट/सर्वर मॉडल के हिस्से के रूप में काम करते हैं। क्लाइंट वह ब्राउज़र है जो उपयोगकर्ता के डिवाइस पर चलता है और वेब सर्वर से अनुरोध करता है, जबकि सर्वर-साइड वेब सर्वर है जो ब्राउज़र को जानकारी वापस भेजता है। ब्राउज़र तब उपयोगकर्ता के डिवाइस पर जानकारी की व्याख्या और प्रदर्शित करता है।

वेब ब्राउजर आम तौर पर कई इंटरवर्किंग भागों से बने होते हैं। इसमें यूजर इंटरफेस ( यूआई ) शामिल है, जो वह स्तर है जिसमें उपयोगकर्ता ब्राउज़र के साथ इंटरैक्ट करता है। ब्राउज़र इंजन वह है जो रेंडरिंग इंजन से पूछताछ करता है, और रेंडरिंग इंजन वह है जो अनुरोधित वेब पेज को प्रस्तुत करता है - HTML या XML दस्तावेज़ों की व्याख्या करना।

नेटवर्किंग वह है जो इंटरनेट सुरक्षा और संचार को संभालती है। किसी वेबसाइट में जावास्क्रिप्ट कोड की व्याख्या और निष्पादन के लिए एक जावास्क्रिप्ट दुभाषिया का उपयोग किया जाता है। 

UI बैकएंड का उपयोग विंडोज़ जैसे विजेट बनाने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त, एक दृढ़ता परत, जिसे डेटा दृढ़ता या भंडारण कहा जाता है, बुकमार्क, कैश और कुकीज़ जैसे डेटा का प्रबंधन करती है।

कुछ लोकप्रिय वेब ब्राउज़र

  • Google Chrome - वर्तमान में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले ब्राउज़रों में से एक है।
  • फ़ायरफ़ॉक्स - जिसे मोज़िला द्वारा विकसित किया गया था।
  • माइक्रोसॉफ्ट एज - विंडोज 10 के साथ इंटरनेट एक्सप्लोरर के लिए एक प्रतिस्थापन का इस्तेमाल किया।
  • इंटरनेट एक्सप्लोरर - माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर को एज से बदल दिया है।
  • सफारी - एप्पल कंप्यूटर और मोबाइल उपकरणों के लिए एक ब्राउज़र।
  • लिंक्स - यूनिक्स शैल और वीएमएस उपयोगकर्ताओं के लिए केवल टेक्स्ट ब्राउज़र।
  • ओपेरा - एक तेज़ और स्थिर ब्राउज़र जो अधिकांश अपेक्षाकृत ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ संगत है।
  • फ्लॉक - एक ओपन सोर्स ब्राउज़र जो फ़ायरफ़ॉक्स पर आधारित वेब ब्राउज़र है।

Search this blog