भारत में पाई जाने वाली ऋतु कौन कौन सी है - bharat me payi jane wali ritu

Post Date : 31 October 2022

ऋतु किसे कहते हैं - ऋतु या मौसम वर्ष की एक अवधि है जो जलवायु परिस्थितियों से अलग होती है। मुख्य रूप से चार ऋतुएँ होती हैं - वसंत, ग्रीष्म, शीत और शरद यह ऋतुए  नियमित रूप से एक दूसरे का अनुसरण करती हैं। प्रत्येक मौसम मे अलग तापमान और स्थित होती है।

भारत में पाई जाने वाली ऋतु कौन कौन सी है

भारत में छह ऋतुएँ पाई जाती हैं। परन्तु वैज्ञानिक चार ऋतुओं को प्रमुख मानते है। वैदिक काल से, भारत और दक्षिण एशिया में हिंदू धर्म के लोग हिंदू त्योहारों और अन्य शुभ अवसरों के लिए हिंदू कैलेंडर का पालन करते रहे हैं।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार भारत में छह ऋतु पाई जाती हैं। जिसका नाम नीचे दिया गया हैं -

  1. वसंत ऋतु
  2. ग्रीष्म ऋतु
  3. वर्षा ऋतु
  4. शरद ऋतु
  5. हेमंत ऋतु
  6. शीत ऋतु

भारत में मानसून का मौसम काफी महत्वपूर्ण होता है और भारत की कृषि मानसून पर निर्भर करती हैं। भारत उष्णकटिबंधीय देश होने के कारण गर्मी का मौसम भी काफी व्यस्त होता है। 

भारत के अधिकांश हिस्से भीषण गर्मी से झुलस जाते हैं। दुनिया के अन्य समशीतोष्ण देशों की तुलना में भारत मे सर्दी आमतौर पर हल्की और सुखद होती है।

वसंत ऋतु

जब पेड़ों की पत्तियाँ गिरती हैं, जब नए पत्ते निकलते हैं, जब कलियाँ अपना जादू बिखेरती हैं, जब तितलियाँ और भौंहें उन्हें सजाती हैं, तो वसंत ऋतु की शुरुआत होती है। 

भारत में यह मौसम फरवरी के मध्य से शुरू होकर अप्रैल तक रहता है। इसे देश के सबसे खूबसूरत मौसमों में से एक माना जाता है। इस दौरान अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इन महीनों को चैत्र और बैसाख के नाम से जाना जाता है। यह वसंत पंचमी, उगाडी, गुड़ी पड़वा, होली, राम नवमी, विशु, बिहू, बैसाखी, पुथंडु और हनुमान जयंती सहित कुछ महत्वपूर्ण हिंदू त्योहारों का भी समय है।

ग्रीष्म ऋतु

गर्मी या ग्रीष्म ऋतु अप्रैल से जून तक राहत हैं और यह ऐसे महीने हैं जब भारत के कई हिस्सों में मौसम धीरे-धीरे गर्म होता जाता है। औसत तापमान 38 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है। इस अवधि के दौरान दिन लंबे होते हैं, जबकि रातें छोटी होती हैं।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इस मौसम के दौरान महीनों को ज्येष्ठ और आषाढ़ के रूप में जाना जाता है। और, यह हिंदू त्योहारों - रथ यात्रा और गुरु पूर्णिमा का समय है।

वर्षा ऋतु 

जून के महीने से पूरे भारत में बारिश शुरू हो जाती है जो मानसून के मौसम या वर्षा ऋतु की शुरुआत का संकेत देती है। यह ऋतु अगस्त माह तक चलती है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार इन महीनों को श्रवण और भादो के नाम से जाना जाता हैं। महत्वपूर्ण त्योहारों में रक्षा बंधन, कृष्ण जन्माष्टमी और ओणम शामिल हैं। औसत तापमान 34 डिग्री सेल्सियस के आसपास होता है।

शरद ऋतु 

यह मौसम अगस्त के मध्य से शुरू होकर सितंबर तक रहता है। शरद ऋतु बरसात के मौसम के बाद और सर्दियों के पूर्व का मौसम है। शरद ऋतु में औसत तापमान 33 डिग्री सेल्सियस होता है।

अश्विन और कार्तिक के दो हिंदू महीने इसी मौसम में आते हैं। यह भारत में त्योहार का समय है जिसमें नवरात्रि, विजयदशमी और शरद पूर्णिमा के सबसे महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार शामिल हैं।

हेमंत ऋतु

मध्य अक्टूबर-दिसंबर मे सर्दियों से पहले के समय को प्री-विंटर या हेमंत ऋतु कहा जाता है। हेमंत ऋतु शरद ऋतु के बाद और सर्दियों के मौसम से पहले का मौसम है। औसत तापमान 27 डिग्री सेल्सियस होता है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, इन महीनों को अगहन और पूस के रूप में जाना जाता है। यह दिवाली और भाई दूज सहित कुछ सबसे महत्वपूर्ण हिंदू त्योहारों का समय है।

शीत ऋतु

भारत में सर्दी का मौसम साल का सबसे ठंडा मौसम होता है, जो आमतौर पर जनवरी और फरवरी के महीने के बीच देखा जाता है। हेमंत ऋतु के बाद और बसंत ऋतु के पहले का मौसम है। औसत तापमान 23 डिग्री सेल्सियस पर स्थिर होता है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार महीनों को माघ और फाल्गुन के रूप में जाना जाता है। यह लोहड़ी, पोंगल, मकर संक्रांति और शिवरात्रि सहित कुछ महत्वपूर्ण फसल त्योहारों का समय है।

ऋतु कितनी होती है

अधिकतर मौसम वैज्ञानिक चार ऋतु को मानते हैं। जिसमे मौसम मे अधिक परिवर्तन देखा जाता हैं। वर्षा ऋतु मे की बात करे तो इन महीनों मे अधिक बारिश होती हैं। 

जबकि शीत ऋतु मे रात के समय रीत गिरती जो बारिश के बूँद से भी छोटी और महीन होती हैं। वही ग्रीष्म ऋतु मे तापमान अपने चरम पर राहत हैं। शरद ऋतु मे अधिक ठंड पड़ती हैं।

  1. शीत ऋतु - इसकी अवधि दिसंबर से मार्च तक होती है। यह सबसे ठंढे महीने होते हैं। इस मौसम में उत्तर भारत काऔसत तापमान 10  से 15 डिग्री सेल्सियस होता है।
  2. ग्रीष्म ऋतु - अप्रैल से जून तक, मई सबसे गर्म महीना होता है, औसत तापमान 32  से 40 डिग्री सेल्सियस होता है।
  3. वर्षा ऋतु - जुलाई से सितम्बर तक, जिसमें सार्वाधिक वर्षा अगस्त महीने में होती है। 
  4. शरद ऋतु - उत्तरी भारत में अक्टूबर और नवंबर माह में मौसम साफ़ और शांत रहता है और अक्टूबर में मानसून लौटना शुरू हो जाता है जिससे तमिलनाडु के तट पर लौटते मानसून से वर्षा होती है।