स्वच्छता अभियान पर निबंध - swachta abhiyan essay in hindi

Post Date : 08 April 2022

स्वच्छता का तात्पर्य स्वच्छ होने की स्थिति से है। यह ऐसी चीज है जिसे जबरदस्ती नहीं बल्कि प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। स्वच्छता एक अच्छी आदत है जो किसी के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकती है। सभी प्रकार की स्वच्छता का भार समान होता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि माता-पिता और शिक्षकों को बच्चों में इस आदत को शुरू से ही प्रोत्साहित करना चाहिए। इससे स्वच्छता के प्रति जागरूकता आएगी। इसे पूरा करना कोई मुश्किल काम नहीं है, बल्कि साफ-सफाई काफी आसान है। स्वच्छता से समझौता करने की गलती कभी नहीं करनी चाहिए । यह मनुष्यों और जानवरों के स्वास्थ्य और भलाई के लिए आवश्यक है।

स्वछता का महत्व

जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं जैसे भोजन, पानी, आश्रय, स्वच्छता का भी जीवन में बहुत महत्व है। वास्तव में, यह स्वस्थ जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक है। स्वच्छता का सबसे पहला और सबसे महत्वपूर्ण महत्व यह है कि इसका मतलब है बीमारी का न होना। स्वच्छता हमें व्यक्तिगत स्तर पर तरोताजा और स्वच्छ रहने में मदद करती है।

इसके अलावा, यह हमें नुकसान पहुंचाने के लिए किसी भी वायरस या बैक्टीरिया की संभावना को कम करता है। जब आप स्वच्छ रहते हैं और पर्यावरण को स्वच्छ रखते हैं, तो आपके बीमार पड़ने की संभावना कम होती है। आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद ले सकते हैं और एक सक्रिय जीवन शैली जी सकते हैं। यह आपको शारीरिक रूप से फिट रखेगा और आपके जीवनकाल को भी बढ़ाएगा।

इसी तरह, हमारे आस-पास की स्वच्छता का अर्थ होगा बढ़ी हुई सुंदरता और स्वास्थ्य। यह न केवल क्षेत्र को सुशोभित करेगा बल्कि इसे और अधिक आकर्षक बना देगा। यह देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए अधिक और पर्यटकों को आकर्षित करने में सहायक हो सकता है। यह विदेशी पर्यटकों की नजर में भी देश का अच्छा नाम कमाएगा।

संक्षेप में, स्वच्छता किसी के स्वास्थ्य और आध्यात्मिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त यह हमारे देश के पर्यावरण विकास के लिए भी आवश्यक है।

स्वच्छता बनाए रखने का तरीका

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि स्वच्छता बनाए रखना कठिन नहीं है। स्वस्थ जीवन के लिए स्वच्छता बनाए रखना बहुत जरूरी है। जब हम अपने निजी जीवन की बात करते हैं तो हम नियमित रूप से स्नान करके स्वच्छता बनाए रख सकते हैं। खाना खाने से पहले हाथ धोना बहुत जरूरी है। यह सुनिश्चित करेगा कि कोई बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश न करे और बीमारियों को रोके ।

इसके बाद हमें हमेशा स्वस्थ भोजन करना चाहिए और स्वच्छ पानी का सेवन करना चाहिए। अक्सर बाहर के खाने और अशुद्ध स्रोतों से पानी पीने से बचें। व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए। अपने नाखूनों को लंबे होने से पहले समय पर ट्रिम करना याद रखें। लंबे नाखून बहुत गंदे होते हैं और इसका मतलब है कि आपके हाथों के नीचे हर समय गंदगी रहेगी। इसके अलावा, मौखिक स्वच्छता के लिए दिन में दो बार ब्रश करने और फ्लॉसिंग करने की आदत बनाए रखें।

परिवेश की बात करें तो धूल से छुटकारा पाने के लिए आपको अपने घर की रोजाना सफाई करनी चाहिए। अपने शहर की सड़कों को साफ रखने के लिए कभी भी गंदगी न करें। उदाहरण के लिए, जब आप चिप्स का एक पैकेट समाप्त करते हैं, तो उसे कार की खिड़की से बाहर न फेंके। इसे अपने पास रखें और कूड़ेदान में फेंक दें।

साथ ही प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल से बचें। रीसाइक्लिंग और पुन: उपयोग को प्रोत्साहित करें। पर्यावरण को स्वस्थ और स्वच्छ बनाने के लिए अधिक से अधिक पेड़ लगाने का प्रयास करें।

अंत में, सभी को स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। चाहे वह व्यक्तिगत प्रयास हो या सरकार का सामूहिक प्रयास। स्वच्छता बनाए रखने के लिए ' स्वच्छ भारत अभियान ' शुरू किया गया था। हम इससे सीख सकते हैं और इसका हिस्सा बन सकते हैं। अगर हर कोई जिम्मेदारी से अपना काम करे, तो हम पृथ्वी को स्वच्छ और हरा-भरा बना सकते हैं।