ads

स्ट्राइक एकांकी का सारांश लिखिए।

प्रस्तुत एकांकी 'स्ट्राइक' आधुनिक जीवन की पृष्ठभूमि को एकांकीकार भुवनेश्वर प्रसाद ने इस एकांकी में आधुनिक जिंदगी जी रहे एक ऐसे मध्यमवर्गीय समाज का जीवन-चित्र प्रस्तुत किया है, जिसमें पति-पत्नी के परस्पर सम्बन्ध-स्थितियों की झलक दिखाई देती है। यहाँ पति-पत्नी की वे स्वाभाविक और आशातीत मधुर और आत्मीय सम्बन्ध नहीं है जो सर्वथा अपेक्षित होते हैं, 

अपितु वहाँ तो पति-पत्नी के रिक्त कटु चुभते हुए सम्बन्धों और भावों का चित्रण है। यह एक प्रकार के ऐसे दाम्पत्य जीवन का चित्रण है जो सर्वथा तनावग्रस्त रहा करता है।

स्त्री-पुरुष के सम्बन्धों को सुखमय बनाने के लिए प्रेम को एक बहुत बड़ा आधार माना है। इस प्रेम बेला से उसके जीवन के अनेक रंग-बिरंगे आकर्षक कामनाओं के प्रणय-सौरभ फैल जाते हैं, इस प्रकार यह सदैव स्वस्थ और रोचक जीवन तरु को बढ़ाने वाला होता है। यह भी सत्य है कि प्रेम स्त्री-पुरुष के बीच सनातन सम्बन्ध है जो कभी भी फीका और थका हुआ नहीं दिखाई देता है। 

स्वाभाविक रूप से स्त्री-पुरुष में जहाँ परस्पर प्रेम व्यापार से सभी सम्बन्ध सुदृढ़ होते हैं वहाँ वह प्रेम-व्यापार बिल्कुल नहीं है। इस एकांकी में स्त्री-पुरुष के सम्बन्धों की वह स्थिति दिखाई देती है।

Subscribe Our Newsletter