लौह इस्पात उद्योग क्या है

 लौह-इस्पात उद्योग आधुनिक औद्योगिक युग की आधारशिला है । लोहे से अनेक प्रकार की मशीनें, परिवहन के साधन, कृषि-यंत्र, सैनिक अस्त्र-शस्त्र, दैनिक उपभोग की बहुतसी वस्तुएँ आदि बनाई जाती हैं, इसलिये लौह-इस्पात उद्योग एक आधारभूत उद्योग माना जाता है। 

सम्पूर्ण आधुनिक सभ्यता का आधार लौह- इस्पात है, इसलिये वर्तमान युग को लौह-इस्पात युग (प्रारंभ में लौह-युग तथा अब इस्पात-युग) कहते हैं । विश्व के कुछ प्रमुख उद्योग 1. लौह-इस्पात उद्योग 2. रसायन उपयोग .3. पेट्रो रसायन उद्योग 4. वस्त्र उद्योग ।

लौह इस्पात उद्योग क्या है

लोहा-इस्पात का विश्व उत्पादन  लौहा- इस्पात का विश्व में उत्पादन बड़े असमान रूप से होता है। विश्व के केवल 6 देश ही विश्व के कुल लौह-इस्पात उत्पादन का 60% भाग उत्पन्न करते हैं । 

ये देश हैं- सोवियत संघ, संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, पश्चिमी जर्मनी, चीन और फ्रांस । अन्य प्रमुख लौह-इस्पात उत्पादक देश इटली, ब्रिटेन तथा भारत हैं। विश्व में लौह-इस्पात उत्पादन निम्नानुसार हैं

लौह-इस्पात उद्योग का विश्व-वितरण  लौह-इस्पात का उत्पादन सोवियत संघ, संयुक्त राज्य अमेरिका, जापान, पश्चिमी जर्मनी, चीन, ब्रिटेन, इटली, चेकोस्लोवाकिया, पोलैण्ड, भारत, आस्ट्रेलिया, हंगरी और ब्राजील में वृहत् पैमाने पर होता है। पूर्व सोवियत संघ में लौह-इस्पात उद्योग 

पूर्व सोवियत संघ में लौह-इस्पात उद्योग का विकास सरकार द्वारा प्रोत्साहन दिये जाने तथा उद्योग के सरकारी स्वामित्व के कारण गत तीन दशकों में तीव्र गति से हुआ है। सन् 1970 के बाद से यह देश विश्व में सबसे अधिक लौह-इस्पात का उत्पादन करने लगा है। रूस विश्व के कुल उत्पादन का लगभग एक चौथाई लौह-इस्पात उत्पन्न करता है।

Search this blog