स्थायी कृषि क्या है

स्थायी कृषि पद्धति में कृषक एक ही स्थान पर निवास कर एक ही प्रदेश में कृषि करते हैं। स्थानान्तरी कृषि उपज की अपेक्षा स्थायी कृषि-पद्धति द्वारा उत्पन्न उपज से अपेक्षाकृत अधिक जनसंख्या का जीवन निर्वाह होता है। 

विश्व के अधिकांश मैदानी भू-भागों में स्थायी कृषि ही अपनायीं गयी है। इस कृषि ने ही मानव को स्थायी जीवन प्रदान किया है। मध्य अमेरीका, दक्षिणी-पूर्वी एशिया, दक्षिणी अफ्रीका के उष्ण एवं आर्द्र प्रदेशों में स्थायी कृषि की जाती है। भारत के अधिकांश क्षेत्रों में इस प्रकार की कृषि की जाती है। 

स्थायी कृषि क्या है

Search this blog