ग्रामीण अधिवास किसे कहते हैं

गाँवों में निवास करने वाले लोगों के प्रमुख व्यवसाय प्राथमिक व्यवसाय होते हैं, जैसे— कृषि कार्य, पशुपालन, मछली पकड़ना, लकड़ी काटना, शिकार करना, खनन आदि । इन बस्तियों के निवासी अपनी आजीविका हेतु सीधे प्रकृति पर निर्भर रहते हैं। 

ग्रामीण बस्तियों की प्रमुख विशेषताएँ निम्नांकित हैं

  1. यहाँ के निवासी प्राथमिक व्यवसाय में संलग्न रहते हैं ।
  2. प्रमुख व्यवसाय कृषि है इसलिए ग्रामीण अधिवासों का वितरण नदियों के उपजाऊ मैदानों में अधिक मिलता है।
  3. ग्रामीण अधिवासों में मकान या घर स्थानीय सामग्रियों से निर्मित होते हैं। 
  4. इनमें मकान के दो भाग होते हैं – एक भाग परिवार के सदस्यों के रहने के लिए तथा दूसरा भाग पशुओं आदि के लिए बना होता है।
  5. गाँवों में मकान सुनियोजित ढंग से नहीं बनाए जाते, बल्कि भूमि की उपलब्धता एवं सुविधानुसार मकान बना लिए जाते हैं।
  6. ग्रामीण अधिवास के लोगों में अधिक सहकारिता तथा सहयोग की भावना होती है।
ग्रामीण अधिवास किसे कहते हैं
Search this blog