ads

दस हजार एकांकी का सारांश संक्षेप में लिखिए।

हिन्दी साहित्य के सुख्यात एकांकीकार उदयशंकर भट्ट रचित 'दस हजार' एकांकी को प्रहसन की कोटि में रखा जा सकता है। प्रहसन उस एकांकी को कहा जाता है जिसमें किसी बात पर हास्य अथवा व्यंग्य के द्वारा प्रकाश डाला जाए।

इस एकांकी में सीमा प्रान्त पर रहने वाला बिसाखाराम मालदार व्यक्ति के रूप में चित्रित किया गया है। वह ब्याज पर रुपया लगाता है, सट्टा करता है, धनवान भी है और कंजूस भी। रात और दिन वह धन प्राप्त करने की ही चिन्ता में लगा रहता है। उसकी पत्नी राजो की माँ कहती है-“सुना तुमने मुनीम जी ! इनकी अक्ल पर तो पत्थर पड़ गये। कुछ नहीं सोचते, बस रुपया-रुपया।

बिसाखाराम के इकलौते पुत्र सुन्दरलाल को पठान डाकू उठाकर ले जाते हैं और बदले में दस हजार रुपये की माँग करते हैं। लड़का स्वयं पत्र लिखता है-“पिताजी अगर मेरी जिन्दगी चाहते हो तो रुपये पहुँचा दो।” परन्तु बिसाखाराम अपनी लड़की, पत्नी और मुनीम से पैसा का रोना रोता है बिसाखाराम के अनुसार-“कैसा दुष्ट लड़का है ? 

चुपचाप चला गया मेरी छाती पे मूंग दलने। कहाँ से लाऊँ दस हजार ? मुनीम जी मैं तो बरबाद हो गया।” लड़का को छुड़ाने से अधिक चिन्ता उसे सूद पर रुपये लगाने की है। वह मुनीमजी से बार-बार पुलिस को खबर कर देने का संकेत देता है। 

राजो की माँ अपने पुत्र के लिए घबरा जाती है। वह मुनीमजी को रुपया ले जाने की आज्ञा देती है। वह बिसाखाराम को डाँटती है-“तीन-चार लाख के मालिक हो, कभी कुछ धरम का काम किया है, ऐसा रुपया किस काम का ?” रुपया देकर मुनीमजी उसके पुत्र सुन्दरलाल को ले आते हैं। 

बिसाखाराम पुत्र को देखकर खुश होता है। बहन राजो लिपट जाती है, माँ की खुशी का ठिकाना नहीं रहता परन्तु जैसे ही बिसाखाराम को यह पता चलता है कि सुन्दरलाल को छुड़ाने के बदले मुनीम जी दस हजार रुपये दे चुके हैं तो वह सुनकर बिसाखाराम धड़ाम से तकिये पर गिरकर अचेत हो जाता है। यहाँ एकांकी समाप्त हो जाती है।

इस एकांकी में बिसाखाराम का चित्रण लोभी और कंजूस पात्र के रूप में हुआ है। थोड़ा बहुत धन का मोह किसे नहीं होता परन्तु पूँजी प्रधान सभ्यता और इस आर्थिक युग में बिसाखाराम जैसे अनेक पात्र हैं जिनके लिए धन ही सर्वस्व होता है।

इस एकांकी में सटीक संवाद योजना और यथार्थ वातावरण का चित्रण हुआ है। भाषा-शैली की दृष्टि से भी यह एकांकी प्रभावपूर्ण ठहरती है। रंगमंच पर इस एकांकी की प्रस्तुति सहज, स्वाभाविक रूप में सम्भव है। 

एकांकीकार ने धन के लोभी बिसाखाराम के माध्यम से यह स्पष्ट करना चाहा है कि ऐसे लोगों की दृष्टि में पुत्र से अधिक धन की चिन्ता रहती है। इस एकांकी में बिसाखाराम की पत्नी स्वस्थ चरित्र के रूप में उपस्थित हुई है। उसके माध्यम से एकांकीकार ने जीवन के वास्तविक पक्ष को उद्घाटित किया है। 

सच तो यह है कि सूद और ब्याज के माध्यम से मक्खीचूस बनकर धन कमाने वाले लोगों की स्थिति बिसाखाराम जैसी होती है जिसके रुपये अनैतिक ढंग से डाकू के हवाले हो जाते हैं। पाठकों एवं दर्शकों को बिसाखाराम का चरित्र हँसने के लिए विवश कर देता है।

Subscribe Our Newsletter