कार्ल मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धांत की विवेचना कीजिए

कार्ल मार्क्स के सामान्य दर्शन पर विचार करते हुए हमने लिखा था कि उसके विचारों को चार वर्गों में विभक्त किया जा सकता है- द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद, इतिहास की भौतिकवादी व्याख्या, वर्गसंघर्ष का सिद्धान्त और अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त । 

मार्क्स ने अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त का प्रतिपादन इस तथ्य को देखने के लिए किया है कि पूँजीवाद में श्रमिकों का पूँजीपति कैसे शोषण करते हैं ? 

मार्क्स का अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त कीमतों का सिद्धान्त नहीं है

मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य सिद्धान्त पर विचार करने से पहले यह बात स्पष्ट रूप से समझ ली जानी चाहिए कि मार्क्स ने अपने इस सिद्धान्त में कीमतों के निर्धारण से सम्बन्ध रखने वाली कोई बात नहीं कही है, ।

अर्थात् उसका सिद्धान्त हमको यह नहीं बताता कि विभिन्न वस्तुओं की कीमतों का किस तरह निर्धारण होता है और उनमें उतार-चढ़ाव क्यों होता है और अपने मूल्य के सिद्धान्त द्वारा मार्क्स ने केवल यह दिखाने का ही प्रयत्न किया है कि पूँजीपति श्रमिक को यथायोग्य पारिश्रमिक नहीं देते। 

वे उनकी आय का अधिकांश भाग स्वयं निगल जाते हैं और इस प्रकार श्रमिक उनके शोषण का शिकार बने रहते हैं ।

मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त पर रिकार्डो का प्रभाव - प्रो. वैपर ने कहा है कि, “मार्क्स का अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त रिकार्डो के सिद्धान्त का ही व्यापक रूप है,  जिसके अनुसार  किसी भी वस्तु का मूल्य उसमें निहित श्रम की मात्रा के अनुपात में होता है, बशर्ते कि यह श्रम उत्पादन की क्षमता के वर्तमान स्टैण्डर्ड के तुल्य हो । 

वस्तुतः अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त की धारणा के विषय में मार्क्स रिकार्डो के विचार बहुत प्रभावित था । " 

उपयोगिता मूल्य तथा विनिमय मूल्य-मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त की व्याख्या दो शब्दों की व्याख्या के पश्चात् ही की जा सकती है। ये शब्द हैं - उपयोगिता मूल्य तथा विनियम मूल्य प्रयोग मूल्य वस्तु की उपयोगिता को कहा जा सकता है। इस प्रकार के मूल्य वाली वस्तुएँ उपयोगी तो होती हैं लेकिन उनका कोई मूल्य नहीं होता क्योंकि उनमें श्रम की कोई मात्रा नहीं लगती। 

उदाहरण के लिये, हवा और पानी अत्यन्त उपयोगी वस्तुएँ हैं लेकिन उनका विनियम मूल्य नहीं है। किसी वस्तु में विनिमय मूल्य उसी समय पैदा होता है, जबकि उनमें मानवीय श्रम की कुछ मात्रा लग जाती है। अतिरिक्त मूल्य विनिमय मूल्य - लागत मूल्य । यदि एक वस्तु का विनिमय मूल्य ₹15 और लागत ₹10 है तो अतिरिक्त मूल्य 15-10 = ₹5 होगा, जो सीधा पूँजीपतियों की जेब में चला जाता है। 

विनिमय मूल्य श्रम की मात्रा पर निर्भर है-चूँकि विनिमय मूल्य की सृष्टि के लिये किसी वस्तु पर मानव का श्रम लगना आवश्यक है, अतः यह निष्कर्ष निकलता है कि

विनिमय मूल्य की दर आवश्यक श्रम की मात्रा पर निर्भर करती है। जिस वस्तु के उत्पादन में अधिक श्रम लगे, उसका विनिमय मूल्य भी अधिक ही होना चाहिए और जिसकी प्राप्ति में श्रम कम लगे, उसका मूल्य भी कम होना चाहिए। इस प्रकार मूल्य को निर्धारित करने वाला तत्त्व श्रम ही है।

मार्क्स ने लिखा है कि, “यदि हम वस्तुओं के प्रयोग मूल्य का विचार न करें, तो उनमें एक ही वस्तु सामान्य बचती है और वह है- उनके श्रम द्वारा उत्पत्ति । इस कारण एक उपयोगी वस्तु का मूल्य इसलिए ही है कि मानव श्रम का उपयोग उसमें हुआ है। 

तब इस मूल्य की मात्रा का माप कैसे किया जाये ? स्पष्टतः मूल्य की सृष्टि करने वाले तत्त्व की मात्रा श्रम से है, जो वस्तु में निहित है। श्रम की मात्रा की माप उसकी अवधि से होती है और श्रम काल का मापदण्ड सप्ताहों, दिवसों एवं घण्टों में होता है। वह है, श्रम काल या श्रम की मात्रा जो उत्पादन के लिए सामाजिक दृष्टि से आवश्यक है। 

इस सम्बन्ध में प्रत्येक वस्तु को उसकी अपनी श्रेणी का औसत नमूना चाहिए। दो वस्तुओं के मूल्य का अनुपात उन पर खर्च किये हुए श्रम काल के अनुपात के अनुसार होता है। "

इस प्रकार मार्क्स का अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त यह बताता है कि श्रम ही वस्तुओं के वास्तविक मूल्यों का निर्धारक तत्त्व है ।

अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त - मार्क्स यह कहने के पश्चात् कि श्रम ही किसी वस्तु मूल्य को पैदा करता है अपने अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त पर आती है, जो कि उसके विचार प्रणाली में इसलिए महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है कि इसके द्वारा उसने यह सिद्ध किया है कि पूँजीपति श्रमिकों का शोषण किस प्रकार करते हैं ।

अतिरिक्त मूल्य की मुख्य बात यह है कि मानव श्रम जितना विनिमय मूल्य उत्पन्न करता है, श्रमिक उसके अनुपात में कम पारिश्रमिक प्राप्त करता है। इस प्रकार का विचार मार्क्स का ही नहीं था। 

उससे पहले अर्थशास्त्री रिकार्डो और वॉन थ्यूरेन आदि इस बात पर पहले से ही जोर देते आये थे कि, "श्रमजीवी जिस मूल्य का उत्पादन करता है, उसे उससे कम मजदूरी के रूप में मिल पाता है।" 

कुछ विचारकों ने यहाँ तक कहा है कि पूँजीपति लाभ, ब्याज, आदि के रूप में जो कुछ भी प्राप्त करते हैं, वह सब वही अतिरिक्त मूल्य होता है, जिसको श्रमिकों द्वारा उत्पन्न किया जाता है । 

मार्क्स ने अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त की व्याख्या बड़े विस्तार से की है उस पर उपर्युक्त विचारों का प्रभाव स्पष्टतः परिलक्षित होता है।

जीविका योग्य मजदूरी का सिद्धान्त - मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त का जीविका योग्य मजदूरी के सिद्धान्त से घनिष्ठ सम्बन्ध है । जीविका योग्य मजूदरी के सिद्धान्त की व्याख्या प्रतिष्ठित अर्थशास्त्रियों ने की थी। एडम स्मिथ, रिकार्डो आदि भी इस सिद्धान्त से परिचित थे। 

इस सिद्धान्त की मुख्य धारणा यह है कि श्रमिक को उतना ही पारिश्रमिक दिया जाता है जिससे कि वह अपने परिवार के पालन योग्य जीविका के साधन प्राप्त कर सके । 

इसका अर्थ यह है कि जीवित रहने के लिए जितनी मजदूरी की आवश्यकता होती है, मजदूर को केवल उतनी ही मजदूरी दी जाती है, उससे ज्यादा नहीं । प्रो. कोकर ने मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त को इन शब्दों में प्रकट किया है

"मार्क्स ने बड़े विशद् रूप में अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त की व्याख्या की। जिस प्रकार प्राचीनकाल में दास या कृषक दासत्व के कार्य करते थे, उसी प्रकार आज श्रमजीवी अपनी सेवाएँ अर्पित करते हैं, जिसके लिये उन्हें कोई पारिश्रमिक नहीं मिलता और जिसके द्वारा निर्मित मूल्यों को सम्पत्ति के स्वामी हजम कर जाते हैं पूँजीपति उन मशीनों और यन्त्रों के स्वामी होते हैं, केवल जिन पर मजदूर ही काम कर सकते हैं। 

मजदूरों की अपनी चीज केवल अपना श्रम ही होती है, जिसे वे सम्पत्ति के स्वामी अथवा पूँजीपति को ऐसे दामों में बेचते हैं जो उन्हें तथा उनके परिवार वालों को केवल जीवित रखने योग्य होते हैं।”

मार्क्स के ग्रन्थों का शायद सबसे प्रभावशाली भाग वे हैं जिनमें उसने लाभ की अनिवार्य आवश्यकता से प्रभावित पूँजीपतियों के उन प्रयत्नों का वर्णन किया है जो वे अतिरिक्त मूल्य को बढ़ाने के लिये मजदूरों का अधिकतम शोषण करते हैं।

उसका अन्तिम निष्कर्ष यह है कि इन अवस्थाओं को समाप्त करने का एकमात्र उपाय है व्यक्तिगत भाड़े, ब्याज तथा लाभ के सभी सुयोगों का सर्वनाश और यह परिणाम केवल समाजवादी व्यवस्था के अन्तर्गत ही सम्भव है, जिसमें व्यक्तिगत पूँजी का स्थान सामूहिक पूँजी ले लेगी, न कोई पूँजीपति रहेगा और न मजदूर सब व्यक्ति सहकारी उत्पादक बन जायेंगे ।

अतिरिक्तमूल्य का सिद्धान्त की आलोचना

मार्क्स के अतिरिक्त मूल्य के सिद्धान्त की अर्थशास्त्रियों और राजनीतिज्ञों ने निम्नलिखित आधारों पर आलोचना की है

(1) मार्क्स का अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त यथार्थ और वास्तविक नहीं है। 

(2) मार्क्स ने कहा है कि केवल श्रम ही मूल्य का उत्पादक है। यह कथन पूर्ण रूप से सत्य नहीं है। श्रम मूल्य को पैदा करने वाले बहुत से तत्त्वों में से केवल एक ही तत्त्व है। बिना पूँजी के श्रम व्यर्थ ही रहता है।

(3) मजदूरी के नियमों के निर्धारण में जोकि मार्क्स ने रिकार्डो का अनुकरण किया, उचित नहीं है ।

(4) श्रम शक्ति की मार्क्स ने अमूर्त व्याख्या की । यह कोई ठोस वस्तु नहीं रही। उसके हाथों में पहुँचकर यह कल्पना की वस्तु ही बन गयी ।

(5) मार्क्स का अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त उसकी दर्शन प्रणाली का कोई आवश्यक भाग नहीं। इसके बिना भी उसके समाजवादी सिद्धान्त की व्याख्या सम्भव है।


Subscribe Our Newsletter