धातु - मुद्रा एवं पत्र - मुद्रा में अन्तर - dhatu mudra aur patra mudra mein antar

धातु - मुद्रा एवं पत्र - मुद्रा में अन्तर

धातु- मुद्रा पत्र- मुद्रा
धातु - मुद्रा अत्यन्त महँगी प्रणाली है। पत्र - मद्रा सस्ती प्रणाली है।
धातु - मुद्रा प्रणाली बेलोचदार होती है। पत्र- मुद्रा प्रणाली लोचदार होती है।
 धातु- मुद्रा का यथार्थ मूल्य होता है। पत्र - मुद्रा का आन्तरिक मूल्य शून्य होता है।
धातु - मुद्रा भारी होती है, अधिक स्थान घेरती है तथा इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना कठिन एवं व्ययपूर्ण होता है। पत्र- मुद्रा हल्की होती है, कम स्थान घेरती है तथा इसे एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना अधिक सुविधाजनक होता है।
 धातु- मुद्रा प्राय: सरकार द्वारा निर्गमित की जाती है । पत्र - मुद्रा प्रायः देश के केन्द्रीय बैंक द्वारा निर्गमित की जाती है।
धातु - मुद्रा को संसार में कहीं पर भी स्वीकार किया जा सकता है। पत्र- मुद्रा को केवल अपने देश में ही स्वीकार किया सकता है।
Subscribe Our Newsletter