प्रतिवेदन किसे कहते हैं -prativedan kise kahate hain

प्रतिवेदन की परिभाषा इस प्रकार दी जा सकती है“किसी व्यक्ति, वस्तु एवं घटना के सोद्देश्य सूक्ष्म निरीक्षण के बाद तैयार किया गया वह सम्पूर्ण विवरण प्रतिवेदन कहलाता है। जो उस व्यक्ति, वस्तु एवं घटना की वास्तविक स्थिति प्रस्तुत करने के साथ-साथ उपादेयता का भी परीक्षण प्रस्तुत कर रहा है ।

भिन्न-भिन्न समितियों, संगठनों अथवा संस्थाओं या इनके अंतर्गत आने वाले इकाइयों की साधारण अथवा विशेष बैठकें समय-समय पर होती रहती हैं। 

इन बैठकों में जो कुछ विचार-विमर्श होता है अथवा इन समितियों के द्वारा आयोजित आयोजनों में होने वाले क्रिया-कलापों का प्रतिवेदन तैयार किये जाते हैं। 

प्रतिवेदन से आप क्या समझते हैं ? प्रतिवेदन के प्रकार बताइये।

बैठकों में लिये गये निर्णयों के क्रियान्वयन के लिए, कभी आगामी बैठकों में ब्यौरा प्रस्तुत करने के लिए, कभी बैठक या आयोजन का लेखा-जोखा प्रस्तुत करने हेतु प्रतिवेदन की आवश्यकता होती है।

इतना ही नहीं प्रतिवेदन की आवश्यकता कभी-कभी किसी संस्थान, संगठन अथवा व्यक्ति विशेष के क्रियाकलापों की जाँच-पड़ताल करने, कार्य-पद्धति में सुधार लाने के लिए भी होता है । जाँच समिति द्वारा जाँच के पश्चात् भी प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाता है।

अतः स्पष्ट है कि विभिन्न प्रकार के उद्देश्यपूर्ण प्रस्तुत किये गए विवरणात्मक लेखे-जोखे के समेकित नाम को ही प्रतिवेदन की संज्ञा दी जाती है। इसकी उपादेयता चालू व्यवस्था की समीक्षा करना तथा उसे कारगर बनाने के लिए होता है। लोकतंत्रीय समाज के लिए इसका विशिष्ट महत्व है। 

प्रतिवेदन के प्रकार

प्रतिवेदन आवश्यकतानुसार प्रबन्धित भी हो सकते हैं तथा निबन्धित और अनुबन्धित भी । विषय-वस्तु के आधार पर वे तथ्यों को विचार परक रूप में प्रस्तुत कर सकते हैं । इस रूप में प्रतिवेदन के दो प्रकार होते हैं

(1) विस्तृत और (2) संक्षिप्त।

अवधि के आधार पर इसके दो भेद किये जाते हैं

(1) नियमित प्रतिवेदन - कर्मचारियों की गोपनीय चरित्रावली विभाग के वार्षिक प्रतिवेदन, किसी स्वायत्तशासी संस्था के वार्षिक प्रतिवेदन नियमित प्रतिवेदन के अन्तर्गत आता है।

(2) सामयिक प्रतिवेदन - किसी विशिष्ट उद्देश्य की पूर्ति हेतु सामयिक तौर पर माँगे गये प्रतिवेदन को सामयिक प्रतिवेदन की कोटि में रखा जाता है ।

संस्था के आधार पर प्रतिवेदन के निम्नांकित भेद हैं

(1) सामूहिक प्रतिवेदन - इसमें समूह के सभी सदस्यों की धारणाओं, विचारों का समुचित समाचार जरूरी होता है।

( 2 ) वैयक्तिक प्रतिवेदन - यह व्यक्ति विशेष के द्वारा प्रस्तुत किया गया प्रतिवेदन होता है। प्रसारण के आधार पर भी प्रतिवेदन के दो प्रकार होते हैं -

(i) प्रकाशित और (ii) गोपनीय।

प्रारूप के आधार पर प्रतिवेदन के निम्न भेद हैं

(1) निश्चित प्रारूप वाले प्रतिवेदन - यह मुद्रित प्रपत्रों में प्रस्तुत किया जाता है। इनमें किसी निश्चित मुद्दे पर ही आकलन होता है।

(2) मुक्त प्रारूप वाले प्रतिवेदन - इस प्रकार के प्रतिवेदन का कोई निश्चित प्रारूप नहीं होता। इसमें आकलन अनिश्चित रूप में होता है। प्रतिवेदक को इसमें छूट भी रहती है।

व्यक्ति, वस्तु एवं घटना के आधार पर प्रतिवेदन के निम्नांकित भेद हैं -

(1) व्यक्ति विशेष का गोपनीय प्रतिवेदन।

(2) किसी संस्था का प्रतिवेदन।  

(3) किसी समारोह, संगोष्ठी या कार्यशाला का प्रतिवेदन।  

(4) किसी जाँच समिति अथवा तथ्यान्वेषण समिति द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन। 

महाविद्यालय वार्षिकोत्सव का प्रतिवेदन शासकीय छत्तीसगढ़ महाविद्यालय, रायपुर में दिनांक 24.12.2014 को छत्तीसगढ़ शासन के जनसंचार मंत्री श्री कमल किशोर मिश्र के मुख्य आतिथ्य एवं श्री नंदकिशोर श्रीवास्तव नगर निगम महापौर की अध्यक्षता में वार्षिकोत्सव का आयोजन किया गया। 

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में बिलासपुर विश्व विद्यालय के कुलपति श्री कमलाकांत भी उपस्थित थे। कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों का स्वागत महाविद्यालय के प्राचार्य श्री ए. के. शर्मा ने किया। 

कार्यक्रम का प्रारंभ माँ सरस्वती की वंदना से हुआ। छात्र-छात्राओं ने तत्पश्चात रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में प्रस्तुत नाटकों, समूह नृत्यों, एकल नृत्यों, एकल गीत एवं समूह गीतों की दर्शकों एवं उपस्थित अभिभावकों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की। वार्षिकोत्सव कार्यक्रम के अंत में पुरस्कार वितरण का कार्यक्रम भी हुआ। 

इस कड़ी में खेलकूद, साहित्यिक-सांस्कृतिक, राष्ट्रीय सेवा योजना, एन. एस. एस. एवं अपनी कक्षाओं में उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम देने वाले छात्र/छात्राओं को मुख्य अतिथि एवं कार्यक्रम के अध्यक्ष के पुरस्कृत करते हुए पुरस्कार प्राप्त कर्ताओं को बधाई दी। 

कार्यक्रम का संचालन श्रीमती शकुन्तला सिन्हा ने किया। आभार प्रदर्शन करते हुए छात्रसंघ प्रभारी श्री के. के. चंदेल ने कार्यक्रम समापन की घोषणा की।

Subscribe Our Newsletter