निजी आय तथा निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में अन्तर

Post Date : 04 August 2022

निजी आय तथा निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में अन्तर

निजी आय तथा निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में प्रमुख अन्तर निम्नांकित हैं -

निजी आय निजी क्षेत्रों को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय
निजी आय, निजी क्षेत्र की समस्त स्रोतों से प्राप्त आय होती है। निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय, घरेलू उत्पाद का वह भाग होता है जो निजी क्षेत्र में उपार्जित होता है।
 निजी आय में आय-भुगतान और चालू हस्तांतरण भुगतान दोनों शामिल होते हैं। निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में केवल आय भुगतान शामिल किए जाते हैं। 
निजी आय में विदेशों से प्राप्त शुद्ध साधन-आय शामिल होती है, अत: यह एक राष्ट्रीय धारणा है। निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में विदेशों से प्राप्त साधन-आय शामिल नहीं होती, अतः यह एक घरेलू धारणा है।
इसका सूत्र है – निजी - आय = निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय + समस्त चालू हस्तांतरण + विदेशों से प्राप्त शुद्ध साधन आय।   इसका सूत्र है- निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय = साधन लागत पर शुद्ध घरेलू उत्पाद - सार्वजनिक क्षेत्र की उपार्जित आय।
निजी आय में राष्ट्रीय ऋणों पर ब्याज शामिल होता है।  निजी क्षेत्र को घरेलू उत्पाद से प्राप्त आय में राष्ट्रीय ऋणों पर ब्याज शामिल नहीं होता।