प्रश्न : मैग्मा किसे कहते हैं

उत्तर :

आपने ज्वालामुखी के बारे में सुना ही होगा यह एक प्राकृतिक घटना हैं। जिसमे एक जोरदार धमाके के साथ पृथ्वी के अंदर मौजूद तरल पदार्थ बहार आता हैं। वर्तमान में कई ऐसे स्थान हैं जहाँ एक्टिव ज्वालामुखी देखा जा सकता हैं। मैग्मा की जानकारी हमें ज्वालामुखी से प्राप्त हुए हैं। ज्वालामुखी के मुँह से निकली हुयी तरल पदार्थ को मैग्मा कहा जाता हैं।

मैग्मा किसे कहते हैं

मैग्मा पिघला हुआ प्राकृतिक पदार्थ है जिससे आग्नेय चट्टानों का निर्माण होता है। मैग्मा पृथ्वी की सतह के नीचे पाया जाता है। अन्य स्थलीय ग्रहों और कुछ प्राकृतिक उपग्रहों पर भी मैग्मा के प्रमाण खोजे गए हैं। पिघली हुई चट्टान के अलावा, मैग्मा में क्रिस्टल और गैस के बुलबुले हो सकते हैं।

मैग्मा विभिन्न टेक्टोनिक मेंटल या क्रस्ट के पिघलने से उत्पन्न होता है, जिसमें पृथ्वी पर प्लेट के खिसकने और अन्य गतिविधि शामिल हैं। मेंटल और क्रस्टल मेल्ट क्रस्ट के माध्यम से ऊपर की ओर पलायन करते हैं, जहां मैग्मा चैंबर्स में संग्रहीत होते है।

क्रस्ट में मैग्मा के भंडारण के दौरान इसकी संरचना में आंशिक क्रिस्टलीकरण होती रहती है। जिसके बाद ये  क्रस्टल मेल्ट क्रस्ट के माध्यम से ज्वालामुखी मुख की और की ओर जाने लगती है और लावा के रूप में बाहर निकाल जाती है।

मैग्मा के प्रकार

पृथ्वी पर सबसे पुराने तरल पदार्थ को मैग्मा कहा जाता है। यह सिलिकेट, ऑक्साइड और अन्य वाष्पशील घटकों का मिश्रण है। पृथ्वी की पपड़ी के नीचे एक चुंबकीय कक्ष में मैग्मा होता है। जब मैग्मा को पिघलाया जाता है, तो यह लावा के रूप में फूटता है। 

घनत्व के आधार पर मैग्मा तीन प्रकार के होते है - बेसाल्ट मैग्मा, एंडीसाइट मैग्मा और रयोलाइट मैग्मा आदि।सामान्य रूप से मैग्मा चार प्रकार के होते है - 

1. अल्ट्रामैफिक - अल्ट्रामैफिक मैग्मा का तापमान 1500 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। इसमें बहुत कम चिपचिपापन होता है जिससे कम विस्फोटक विस्फोट होते हैं।

2. माफिक - माफिक मैग्मा का तापमान 1300 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। इसकी चिपचिपाहट भी कम होती है। इसमें कोमल विस्फोट होते हैं।

3. मध्यवर्ती - मध्यवर्ती मैग्मा का तापमान 1200 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है। चिपचिपाहट मध्यम होती है। इसमें विस्फोटक विस्फोट होते हैं।

4. फ़ेलसिक - फेल्सिक मैग्मा का तापमान 900 डिग्री सेल्सियस से कम होता है। यह अत्यधिक चिपचिपा होता है। इसमें विस्फोट विस्फोटक हैं। यह महाद्वीपीय क्रस्ट और दरारों में गर्म स्थानों में आम है।

मैग्मा और लावा में अंतर

मैग्मा तापमान 700 डिग्री सेंटीग्रेड से 1300 डिग्री सेंटीग्रेड तक भिन्न होता है। जबकि लावा का तापमान 700 डिग्री सेंटीग्रेड से 1200 डिग्री सेंटीग्रेड तक भिन्न होता है।

आग्नेय चट्टानें तब बनती हैं जब मैग्मा ग्रह के आंतरिक भाग से बाहर आता है और लावा नामक पिघली हुई चट्टान का निर्माण करता है।

मैग्मा आंतरिक रूप से बाहर निकल सकता है और ज्वालामुखी विस्फोट को जन्म दे सकता है या पृथ्वी की दरारों के भीतर भी डाइक, सिल्स आदि बनाने के लिए जम सकता है।

सिलिका युक्त मैग्मा माफिक मैग्मा की तुलना में अधिक चिपचिपे होते हैं। माफिक मैग्मा सिलिका युक्त मैग्मा की तुलना में अधिक गर्म होते हैं। फेल्डस्पार, फेल्डस्पैथोइड्स, ओलिविन, पाइरोक्सेन, एम्फीबोल, माइक और क्वार्ट्ज लावा के प्रमुख घटक हैं।

Related Posts

Subscribe Our Newsletter