भगवान शिव के 12 नाम कौन कौन से हैं - bhagwan shiv ke kitne naam hai

Post Date : 05 May 2021

भगवान शिव सनातन धर्म में सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक है। वह त्रिदेवों में एक देव हैं। इन्हें देवों के देव महादेव भी कहते हैं। हिन्दू धर्म में शिव प्रमुख देवताओं में से हैं। 

भगवन शिव को सबसे दयालु देवता माना जाता हैं। गणेश और कार्तिके इसके दो पुत्र हैं। शिव की दो पत्निया थी। सति और पारवती सती की मृत्यु के बाद भोलेनाथ ने पारवती से सदी की जो सती की ही अवतार थी।

भगवान शिव के 12 नाम कौन कौन से हैं

भगवान शिव के 12 नाम निम्नलिखित है। 

  1. भोलेनाथ
  2. शंकर
  3. महेश
  4. रुद्र
  5. नीलकंठ
  6. गंगाधर
  7. शिव
  8. शम्भू
  9. कैलाशवासी
  10. अंबिकानाथ
  11. महाकाल
  12. भक्तवत्सल

भगवान शिव के कितने नाम है 

भगवान शिव के 108 नाम है। तंत्र साधना में शिव को भैरव के नाम से भी जाना जाता है। वेद में इनका नाम रुद्र भी है। यह हमेशा तपस्या में लीन रहते हैं। भगवन शिव का आवास कैलाश पर्वत हैं जो हिमालय पर्वतमाला में एक पर्वत श्रेणी हैं। शिव हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं। हिंदू धर्म के भीतर प्रमुख परंपराओं में से एक शैव धर्म में सर्वोच्च हैं।

शिव को त्रिमूर्ति में विनाशक के रूप में जाना जाता है, त्रिमूर्ति जिसमें ब्रह्मा और विष्णु शामिल हैं। शैव परंपरा में, शिव सर्वोच्च भगवान हैं जो ब्रह्मांड की रचना, रक्षा और परिवर्तन करते हैं। शाक्त परंपरा में देवी या देवी को सर्वोच्च में से एक के रूप में वर्णित किया गया है। फिर भी शिव विष्णु और ब्रह्मा के साथ पूजनीय हैं।

देवी को प्रत्येक की ऊर्जा और रचनात्मक शक्ति कहा जाता है, जिसमें पार्वती शिव की समान पूरक साथी हैं। वह हिंदू धर्म की परंपरा की पंचायतन पूजा में पांच समकक्ष देवताओं में से एक है।

शिव ब्रह्मांड के आदि आत्मा हैं। शिव के कई दयालु और भयावह चित्रण हैं। परोपकारी पहलुओं में, उन्हें एक सर्वज्ञ योगी के रूप में दर्शाया गया है। जो कैलाश पर्वत पर एक तपस्वी जीवन जीते हैं और साथ ही पत्नी पार्वती और उनके दो बच्चों, गणेश और कार्तिकेय के साथ एक गृहस्थ भी हैं। 

उन्हें अक्सर राक्षसों का वध करते हुए दिखाया गया है। शिव को आदियोगी शिव के रूप में भी जाना जाता है, जिन्हें योग, ध्यान और कला का संरक्षक देवता माना जाता है। शिव की विशेषताएं उनके गले में सर्प, सुशोभित अर्धचंद्र, उनके उलझे हुए बालों से बहने वाली पवित्र नदी गंगा, उनके माथे पर तीसरी आंख, त्रिशूल, उनके हथियार में डमरू शिव को आदियोगी बनाता हैं। उन्हें आमतौर पर लिंगम के रूप में पूजा जाता है। 

शिव एक सर्वव्यपी पूजनीय हिंदू देवता हैं। जिस पर धतूरा और जल चढ़ाया जाता हैं। हिन्दू परम्परा में शिव लिंग एकमात्र ऐसा प्रतिक है जी पर जल और दूध चढ़ाया जाता हैं। भगवन शिव पुरे भारत सहित नेपाल और श्रीलंका में हिंदुओं द्वारा व्यापक रूप से पूजनीय हैं।