ads

सबसे गर्म ग्रह कौन सा है - Hottest planet kaun sa hai

सौर मंडल में ऊर्जा का सबसे बड़ा स्रोत सूर्य है। सूर्य से निकलने वाला प्रकाश और गर्मी ग्रह की सतह के तापमान के लिए जिम्मेदार होता है। ग्रह सूर्य से जितना दूर होता है, उतना ही ठंडा होता जाता है। लेकिन शुक्र ग्रह बुध से दूर है फिर भी वह बुध ग्रह से अधिक गर्म हैं।

सूर्य से सबसे नजदीकी ग्रह बुध का वातावरण बहुत पतला है और जिसके फलस्वरूप दिन का तापमान 1,000 डिग्री फ़ारेनहाइट हो जाता है जबकि रात में तापमान -290 डिग्री तक पहुंच सकता है। चलिए जानते है की हमारे सौर मंडल का सबसे गर्म ग्रह कौन सा हैं।

सबसे गर्म ग्रह कौन सा है

हमारे सौरमंडल मे सबसे गर्म ग्रह शुक्र ग्रह हैं। इसका कारण यहाँ मौजूद घना वातावरण हैं। जो प्रकाश को वायुमण्डल से बहार नहीं निकलने देता हैं। जिससे यहाँ का तापमान 900 डिग्री फ़ारेन्हाईट तक पहुंच जाता हैं।

यह पृथ्वी का निकटतम ग्रह है। और यह चार स्थलीय ग्रहों में से एक है। शुक्र सबसे गर्म ग्रह हैं। जिसे आकार और संरचना के आधार पर पृथ्वी की बहन भी कहा जाता हैं। इसका नाम प्रेम और सुंदरता की रोमन देवी के नाम पर रखा गया है। शुक्र दुर्लभ अवसरों पर दिन के उजाले में नग्न आंखों से दिखाई दे सकता है।

सबसे गर्म ग्रह कौन सा है - What is the hottest planet
  • एक दिन की लंबाई - 116 दिन और 18 घंटे। 
  • सूर्य से दूरी - 108.2 मिलियन किमी। 
  • गुरुत्वाकर्षण - 8.87 m/s² 
  • कक्षीय अवधि - 225 दिन। 
  • सतह क्षेत्र - 460.2 मिलियन वर्ग किमी। 
  • त्रिज्या - 6,051.8 किमी। 

शुक्र में कार्बन डाइऑक्साइड से भरा एक घना, विषैला वातावरण है और यह सल्फ्यूरिक एसिड के घने, पीले बादलों से हमेशा के लिए ढका रहता है जो गर्मी को फँसाते हैं। 

यह हमारे सौर मंडल का सबसे गर्म ग्रह है, भले ही बुध सूर्य के करीब है। लेकिन शुक्र का तापमान लगभग 900 डिग्री फ़ारेनहाइट तक रहता है। इस ग्रह का सतह एक जंग खाए लोहे की तरह दिखाई देता है और यह हजारों ज्वालामुखियों से भरी हुई है। 

शुक्र की सतह पर हवा का दबाव अधिक है। यहाँ पृथ्वी की तुलना में 90 गुना हैं। यदि आप पृथ्वी पर समुद्र के नीचे एक मील नीचे जायेंगे तो उतना दबाव का सामना करेंगे।

शुक्र सौर मंडल के अन्य ग्रहों की तुलना में अपनी धुरी पर पीछे की ओर घूमता है। इसका मतलब यह है कि, शुक्र पर, सूर्य पश्चिम में उगता है और पूर्व में अस्त होता है।

शुक्र एक अंतरिक्ष यान द्वारा खोजा जाने वाला पहला ग्रह था। नासा के मेरिनर 2 ने 14 दिसंबर, 1962 को सफलतापूर्वक उड़ान भरी और बादलों से ढकी दुनिया को स्कैन किया। तब से, अमेरिका और अन्य अंतरिक्ष एजेंसियों के कई अंतरिक्ष यान ने शुक्र की खोज की है। 

मैगलन ने इस ग्रह की सतह को रडार से मैप किया हैं। बाद मे सोवियत संघ के अंतरिक्ष यान ने शुक्र की सतह पर सबसे सफल लैंडिंग की हैं। लेकिन अत्यधिक गर्मी और दबाव के कारण वे लंबे समय तक नहीं टिक सका और नस्ट हो गया।

वातावरण और जलवायु

शुक्र सौरमंडल के चार स्थलीय ग्रहों में से एक है, जिसका अर्थ है कि यह पृथ्वी की तरह एक चट्टानी पिंड है। यह आकार और द्रव्यमान में पृथ्वी के समान है और इसे अक्सर पृथ्वी की बहन के रूप में वर्णित किया जाता है। शुक्र का व्यास केवल 638.4 किमी पृथ्वी से कम अर्थात 12,103.6 किमी है। इसका द्रव्यमान पृथ्वी का 81.5% है। 

शुक्र की सतह पर स्थितियां पृथ्वी से भिन्न हैं क्योंकि इसका घना वातावरण 96.5% कार्बन डाइऑक्साइड है, शेष 3.5% नाइट्रोजन है। सतह का दबाव 9.3 मेगापास्कल है, और औसत सतह का तापमान 464 डिग्री तक राहत है।

कार्बन डाई आक्साइड ग्रीनहाउस प्रभाव उत्पन्न करता है , जिससे सतह का तापमान कम से कम 735 K  हो जाता है। 

यह शुक्र की सतह को बुध की तुलना में अधिक गर्म बनाता है, जिसकी सतह का न्यूनतम तापमान 53 के और अधिकतम सतह का तापमान 700 k तक होता है। 

भले ही शुक्र सूर्य से बुध की दूरी से लगभग दोगुना है और इस प्रकार बुध के सौर विकिरण का केवल 25% प्राप्त करता है।

ज्वालामुखी

शुक्र ग्रह में सौरमंडल के किसी भी ग्रह की तुलना में अधिक ज्वालामुखी हैं। 1600 से अधिक प्रमुख ज्वालामुखी या ज्वालामुखीय विशेषताएं ज्ञात हैं। ये ज्वालामुखी विभिन्न रूपों में आते हैं। अधिकांश या तो लार्ज शील्ड या छोटे शील्ड ज्वालामुखी हैं, लेकिन कई जटिल विशेषताएं , कई असामान्य निर्माण और कुछ बड़े प्रवाह की विशेषताएं भी रखती हैं। 

वर्तमान में किसी के भी सक्रिय होने की जानकारी नहीं दी है, लेकिन हमारा डेटा बहुत सीमित है। इस प्रकार, जबकि इनमें से अधिकांश ज्वालामुखी शायद लंबे समय से मृत हैं, कुछ अभी भी सक्रिय हो सकते हैं।

अधिकांश ग्रह जो 300 मिलियन वर्ष से कम पुराना हैं इनमे अधिक ज्वालामुखी है, और ज्वालामुखीय गतिविधि ने इसके इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 

ऐसा प्रतीत होता है कि शुक्र की अधिकांश सतह ज्वालामुखीय गतिविधि के आकार की है। शुक्र के पास पृथ्वी की तुलना में कई गुना अधिक ज्वालामुखी हैं, और इसमें 167 बड़े ज्वालामुखी हैं जो 100 किमी से अधिक मे फैले हैं।

पृथ्वी पर इस आकार का एकमात्र ज्वालामुखी परिसर हवाई का बड़ा द्वीप है। शुक्र पृथ्वी की तुलना में अधिक ज्वालामुखीय रूप से सक्रिय है, क्योंकि इसकी पपड़ी पुरानी है।

ग्रह का तापमान

  1. शुक्र - 475 डिग्री सेल्सियस
  2. बुध - 167 डिग्री सेल्सियस
  3. पृथ्वी - 15 डिग्री सेल्सियस
  4. मंगल - माइनस 65 डिग्री सेल्सियस
  5. बृहस्पति- माइनस 110 डिग्री सेल्सियस
  6. शनि - माइनस 140 डिग्री सेल्सियस
  7. यूरेनस - माइनस 195 डिग्री सेल्सियस
  8. नेपच्यून - माइनस 200 डिग्री सेल्सियस
  9. प्लूटो - माइनस 225 डिग्री सेल्सियस

शुक्र के बारे में 5 तथ्य क्या हैं

  1. शुक्र ग्रह पर एक दिन एक साल से ज्यादा लंबा होता है।
  2. शुक्र सूर्य से अधिक दूर होने के बावजूद बुध से अधिक गर्म है।
  3. हमारे सौर मंडल के अन्य ग्रहों के विपरीत, शुक्र अपनी धुरी पर दक्षिणावर्त घूमता है।
  4. चंद्रमा के बाद शुक्र रात्रि आकाश में दूसरी सबसे चमकीली प्राकृतिक वस्तु है।
  5. शुक्र पर पृथ्वी के वायुमंडलीय दबाव का 90 गुना है।

क्या आप शुक्र ग्रह पर रह सकते हैं

उत्तर - आज तक, शुक्र पर भूतकाल या वर्तमान में जीवन का कोई निश्चित प्रमाण नहीं मिला है। अत्यधिक गर्म तापमान होने के कारण यह जीवन का होना लगभग नामुमकिन है। यह का तापमान लगभग 735k यानी 462 डिग्री सेल्सियस होता है और वायुमंडलीय दबाव पृथ्वी से लगभग 90 गुना हैं।

यह ग्रह सूर्य से क्रम में दूसरा ग्रह है फिर भी बुध से अधिक गर्म हैं। इसका कारण यहाँ मौजूद घाना वातावरण हैं। 

शुक्र के बारे में क्या खास है 

उत्तर - शुक्र सूर्य से दूसरा ग्रह है और सूर्य और चंद्रमा के बाद पृथ्वी के आकाश में तीसरा सबसे चमकीला पिंड है। इसे कभी-कभी पृथ्वी का बहन ग्रह कहा जाता है, क्योंकि उनका आकार और द्रव्यमान बहुत समान होते हैं। शुक्र की सतह बादलों की एक अपारदर्शी परत से छिपी हुई है जो सल्फ्यूरिक एसिड से बनती है।

शुक्र जहरीला क्यों है 

उत्तर - शुक्र को सूर्य से गर्मी प्राप्त होती है, लेकिन, अपने घने बादल के कारण, गर्मी बादल के नीचे फंस जाती है, और वापस अंतरिक्ष में जाने में असमर्थ होती है। शुक्र का लगभग पूरा वातावरण कार्बन डाइऑक्साइड से बना है, जो एक जहरीली, दम घुटने वाली गैस है जो किसी भी जीवित प्राणी को सांस लेने पर मार देगी।

क्या शुक्र हर रात दिखाई देता है

उत्तर - शुक्र हमेशा चांदी की तरह चमकीला दिखाई देता है। यह 1 जनवरी से 23 जनवरी तक सुबह पूर्वी आकाश में दिखाई देता है। तथा शाम को पश्चिमी आकाश में 24 मई से दिसंबर तक शाम को दिखाई देता है।

Subscribe Our Newsletter