मुद्रा प्रसार तथा मुद्रा संकुचन में अन्तर - mudra prasaar tatha mudra sankuchan mein antar

मुद्रा प्रसार तथा मुद्रा संकुचन में अन्तर

मुद्रा प्रसार मुद्रा संकुचन
मुद्रा प्रसार की स्थिति में मुद्रा की क्रयशक्ति घट जाती है अर्थात् मुद्रा का मूल्य कम हो जाता है। मुद्रा संकुचन की स्थिति में मुद्रा की क्रयशक्ति बढ़ जाती है अर्थात् मुद्रा का मूल्य बढ़ जाता है।
मुद्रा प्रसार में मुद्रा की पूर्ति आवश्यकता से अधिक बढ़ जाती है। मुद्रा संकुचन में मुद्रा की पूर्ति आवश्यकता से कम रह जाती है।
मुद्रा प्रसार में आर्थिक क्रियाओं में वृद्धि के कारण रोजगार के अवसरों में वृद्धि होती है। मुद्रा संकुचन में आर्थिक क्रियाएँ हतोत्साहित होने के कारण रोजगार के अवसरों में कमी आती है।
मुद्रा प्रसार में वस्तुओं के मूल्य बढ़ने के कारण उपभोक्ता को वस्तुओं का पहले की तुलना में अधिक मूल्य चुकाना पड़ता है। मुद्रा संकुचन में वस्तुओं के मूल्य घटने के कारण उपभोक्ताओं को वस्तुएँ पहले की तुलना में सस्ती प्राप्त होने लगती है।
मुद्रा प्रसार में मूल्यों में वृद्धि के कारण उत्पादकों के लाभ बढ़ते हैं, जिससे आर्थिक क्रियाएँ प्रोत्साहित होती हैं। अतः देश का आर्थिक विकास तेजी से होने लगता है। मुद्रा संकुचन में संकुचन में मूल्यों में कमी के कारण उत्पादकों के लाभ कम होते हैं।  फलस्वरूप विनियोग हतोत्साहित होते हैं और आर्थिक विकास का मार्ग बाधित हो जाता है।
मुद्रा प्रसार में उत्पादकों के लाभ बढ़ने के कारण वे पहले से अधिक मात्रा में उत्पादन करते हैं। परिणामस्वरूप देश में उत्पादन की मात्रा बढ़ जाती है। मुद्रा संकुचन में उत्पादकों के लाभ कम हो जाने के कारण वे पहले से कम मात्रा में उत्पादन करते हैं। परिणामस्वरूप देश में उत्पादन की मात्रा में कमी आ जाती है।
Subscribe Our Newsletter