History लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्वदेशी आंदोलन पर टिप्पणी लिखिए - swadeshi andolan par tippani

बंगाल विभाजन ने असंतोष और अशांति की धधकती आग में घी का काम किया। इससे बंगाल में एक तूफान फूट पड़ा, जो शीघ्र ही सारे देश में फैल गया। फिर उथल-पुथल का जो दौर शुरु हुआ उसमें बहिष्कार और स्वदेशी आंदोलन क…

गरम दल के नेता कौन कौन थे - garam dal ke neta

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गठन 1885 में हुआ था, 1907 में यह दो गुटों में विभाजित हो गया। तिलक के नेतृत्व में गरम दल और गोखले के नेतृत्व में नरम दल। ब्रिटिश शासन के प्रति उनके रवैये के कारण उन्हें ऐ…

बंगाल का विभाजन किसने किया था - Division of Bengal

उस समय बंगाल राष्ट्रीय आदोलन का केन्द्र था। बंगाल का शिक्षितवर्ग हिंसक और अहिंसक दोनों तरह के आंदोलनों में आगे था। अतः लार्ड कर्जन ने 1905 ई. में बंगाल को दो भागों में बाँटने की घोषण की। पूर्वी बंगाल…

कांग्रेस की स्थापना कब हुई थी - Establishment of Congress in hindi

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस बोलचाल की भाषा में कांग्रेस पार्टी कहा जाता हैं। यह एशिया और अफ्रीका में ब्रिटिश साम्राज्य में उभरने वाला पहला आधुनिक राष्ट्रवादी आंदोलन था। कांग्रेस ने भारत को यूनाइटेड किं…

भारत में 1857 की क्रांति की शुरुआत कब हुई -When did the revolt of 1857 start in India

1856 ई. में लार्ड डलहौजी के बाद लार्ड केनिंग गवर्नर जनरल बनकर आया । केनिंग के शासनकाल की सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटना 1857 ई. की क्रांति थी। भारतीयों ने कभी स्वेच्छा से ब्रिटिश साम्राज्य को स्वीकार नहीं …

राष्ट्रीय आंदोलन में छत्तीसगढ़ का योगदान - Contribution of Chhattisgarh in National Movement

सोनखान के जमींदार वीर नारायण सिंह के नेतृत्व में 1857 की क्रांति में आरंभ हुई। 18 जनवरी, 1858 को हनुमान सिंह राजपूत ने सेना में विद्रोह कर अँग्रेज अधिकारी सिडवेल को मार डाला। 17 क्रांतिकारियों को 22 …
Search this blog