शिक्षक दिवस पर निबंध - teachers day essay in hindi

Post Date : 12 October 2020

प्रस्तावना - शिक्षक वह होता है जो बच्चों से लेकर वृद्ध तक के लिए मार्गदर्शक और प्रेरणा का श्रोत होते है। उन पर मूल्यों, और नैतिकता को आगे बढ़ाने की जिम्मे दरी होती है। शिक्षक दिवस के दिन भारत सरकार द्वारा शिक्षकों को सम्मानित किया जाता है। हम हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाते हैं। 

प्राचीन काल से ही भारत में गुरु शिष्य की परंपरा रही है। महाभारत काल में एकलव्य ने अपने गुरु को अगुठे को काट कर गुरु दक्षिणा दिया था। इस घटना से पता चलता है की गुरु का स्थान क्या होता है। 

गुरु गोविन्द दोनों खड़े काके लागु पाय। 
बलिहारी गुरु आपने गोविन्द दियो बताये।। 

संत कबीर दास ने तो गुरु को भगवान से भी ऊपर बताया है। इस कविता में गुरु और भगवान को एक साथ खड़े होने की बात कही गयी है। पहले किसे प्रणाम करू यह दुविधा बानी है। गुरु ने ही भगवान तक जाने का मार्ग बताया है। इसलिए गुरु को बड़ा माना गया है। 

भारत में शिक्षक दिवस

मानव जीवन में शिक्षा जितना महत्व रखता है। वही अच्छे शिक्षक का मिलना उतना ही महत्व रखता है। और एक अच्छा गुरु का मिलना आपके जीवन को एक अलग ही दिशा प्रदान करता है। भारत के सभी स्कुल, कॉलेज में  शिक्षक दिवस को धूम धाम से मनाया जाता है। इस दिन शिक्षकों को सम्मनित किया जाता है। कार्यक्रम होते है। कई प्रतियोगिताये कराई जाती है।

शिक्षक दिवस क्यों मनाया जाता है

शिक्षकों द्वारा किए गए योगदान और प्रयासों पर कभी ध्यान नहीं जाता है। इसलिए शिक्षक दिवस का उद्घाटन किया गया। भारत में, हम डॉ। सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाते हैं। जो कई महान गुणों और विशेषताओं के व्यक्ति के रूप में जाने जाते थे। वे एक शिक्षक थे। उनके छात्रों ने जन्मदिन मानाने की आग्रह किया तभी डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा यदि में जैम दिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जायेगा तो मुझे बहुत खुशी होगी। तभी से हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। 

हलाकि 5 अक्टूबर को विश्व शिक्षक दिवस मनाया जाता है। जो की अंतराष्टीय स्तर पर होता है। भारत के साथ और कई देशो में 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। जिसमे पाकिस्तान, बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया, चीन, जर्मनी श्रीलंका आदि।     

शिक्षक समग्र विकास में कई भूमिकाएँ निभाते हैं जैसे:

  1. वे बच्चों और छात्रों को नैतिक कौशल के लिए मार्गदर्शन करते हैं। 
  2. वे बच्चो को अनुशासन सिखाते हैं
  3. इसके अलावा, वे अपने छात्रों को आध्यात्मिक और भावनात्मक मार्गदर्शन प्रदान करते हैं।

शिक्षक अपने दैनिक जीवन में कई तरह की चुनौतियों से गुजरते हैं जैसे समुदाय द्वारा अनुचित संस्कृति के साथ-साथ अपने छात्रों के अनुशासनात्मक मुद्दों से निपटना।

शिक्षक को धन्यवाद 

अपने व्यस्त जीवन में, हम कृतज्ञता व्यक्त करना भूल गए हैं। आभार व्यक्त करने वाले पर और इसे प्राप्त करने के लिए या एक अच्छा औसर होता है। हम अपने शिक्षकों को धन्यवाद देने और उनके लिए अपने प्यार और देखभाल को व्यक्त करने के लिए इस दिन को एक अवसर के रूप में ले सकते हैं।

साथ ही, हम उन्हें इस दिन एक यात्रा दे सकते हैं और उनके साथ अपने अनुभव साझा कर सकते हैं। इससे उन्हें खुश मिलेगी और अपने प्रयासों पर गर्व करेगा।

हम सराहना के एक छोटे से टोकन को पेश कर सकते हैं, कुछ ऐसा जो वे पेन या प्लानर की तरह स्मृति के रूप में रख सकते हैं या ऐसा कुछ जो उनके लिए उपयोगी होगा।

हमें भी उनका आशीर्वाद लेना चाहिए और उन्हें यह बताना चाहिए कि जब भी उन्हें हमारी जरूरत होगी, हम उनके लिए हमेशा मौजूद रहेंगे।

छात्र सामूहिक रूप से उन्हें किताबें और अन्य सामग्री उपहार में दे सकते हैं और विशेष रूप से कक्षा में स्नातक होने पर एक साथ मिलाने का आयोजन कर सकते हैं। उनके साथ बिताया गया समय और कृतज्ञता शिक्षकों को खुश और गौरवान्वित करने के लिए एक अच्छा माध्यम होगा। हमारे व्यक्तित्व को ढालने के लिए उनके योगदान को पहचानना बहुत महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष

किसी भी देश के विकास में शिक्षक एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यही कारण है कि इस दिन को शिक्षकों को धन्यवाद देना महत्वपूर्ण है। हम अपने जीवन में शिक्षकों के योगदान का सम्मान करने के लिए शिक्षक दिवस मनाते हैं। बच्चों के पालन-पोषण में शिक्षकों द्वारा किए गए कर्तव्य बेहद महत्वपूर्ण हैं और इस तरह से शिक्षक दिवस को मनाना उनके पेशे और समाज में उनकी भूमिका को पहचानने की दिशा में एक अच्छा कदम है।