राष्ट्रीय आय तथा निजी आय में अन्तर - rashtiya aay tatha niji aay mein antar

राष्ट्रीय आय तथा निजी आय में अन्तर

राष्ट्रीय आय तथा निजी आय में प्रमुख अन्तर निम्नांकित हैं -

निजी आय राष्ट्रीय आय
निजी आय में आय-भुगतान तथा हस्तांतरण भुगतान दोनों शामिल किए जाते हैं। राष्ट्रीय आय में केवल आय-भुगतान शामिल किए जाते हैं।
निजी आय में केवल निजी क्षेत्र की आय को शामिल किया जाता है। राष्ट्रीय आय में निजी एवं सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों में सृजित आय को शामिल किया जाता है।
निजी आय, निजी क्षेत्र के लोगों की आय होती है। राष्ट्रीय आय एक देश के सामान्य निवासियों की आय होती है।
निजी आय में राष्ट्रीय ऋणों पर ब्याज के भुगतान को शामिल किया जाता है। राष्ट्रीय आय में राष्ट्रीय ऋणों पर ब्याज नहीं शामिल किया जाता।
निजी आय का सूत्र है – निजी आय = घरेलू साधन आय-घरेलू उत्पाद से सरकारी क्षेत्र को प्राप्त आय समस्त चालू हस्तांतरण भुगतान + विदेशों से प्राप्त शुद्ध साधन आय। राष्ट्रीय आय का सूत्र है- राष्ट्रीय आय = घरेलू साधन आय + विदेशों से प्राप्त शुद्ध साधन आय।
Subscribe Our Newsletter