छत्तीसगढ़ की जलवायु कैसी है -how is the climate of chhattisgarh

छत्तीसगढ़ मध्य भारत में स्थित है, यह उष्ण कंटिबंधीय मानसूनी जलवायु वाला प्रदेश है, कर्क रेखा में स्थित होने के कारण यह गर्म प्रदेश है। यहाँ की जलवायु मुख्यतः उष्णार्द्र या अधो आर्द्र प्रकार की है। कर्क रेखा प्रदेश के मध्य से होकर गुजरती है जिसके कारण ग्रीष्म ऋतु अत्यधिक गर्म व शीत ऋतु अधिक के ठंडी होती है।

प्रदेश में मार्च से जून तक तापमान तीव्रता से बढ़ता है तत्पश्चात तापमान कम हो जाता है। छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक तापमान मई माह में लगभग 40 सेंटीग्रेड में होता है, सबसे कम तापमान दिसंबर में 16 सेंटीग्रेड होता है। मई का महीना सर्वाधिक गर्म और दिसंबर-जनवरी ठंडे महीने है। 

प्रदेश के सभी भागों में दैनिक तापांतर मार्च में सबसे अधिक मिलता है क्योंकि इस समय आकाश स्वच्छ रहता है। प्रदेश में सबसे अधिक तापमान रायपुर जिले में तथा सबसे कम तापमान सरगुजा जिले में होता है। चांपा सबसे अधिक गर्म और अंबिकापुर सबसे ठंडी जगह है।

वर्षा - छत्तीसगढ़ प्रदेश में वर्षा की प्रकृति मानसूनी है। यहाँ पर अधिकांश वर्षा बंगाल की खाड़ी की मानसूनी हवाओं से होती है। छत्तीसगढ़ में सबसे अधिक वर्षा बस्तर के अबूझमाड क्षेत्र में होती है, यहाँ का औसत 187.5 सेमी. है। छत्तीसगढ़ में मानसून का आगमन सर्वप्रथम बस्तर में होता है इसलिए वहाँ सर्वाधिक 171 दिनों तक नमी रहती है।

Search this blog