व्यष्टि और समष्टि अर्थशास्त्र में अंतर - vyashti aur samashti arthshastra mein antar

Post Date : 23 July 2022

व्यष्टि और समष्टि अर्थशास्त्र में अंतर

व्यष्टि अर्थशास्त्रसमष्टि अर्थशास्त्र

व्यष्टि अर्थशास्त्र में व्यक्तिगत आर्थिक इकाइयों का अध्ययन किया जाता है।

समष्टि अर्थशास्त्र में सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था का एक समग्र इकाई के रूप में अध्ययन किया जाता है। 
व्यष्टि अर्थशास्त्र में व्यक्तिगत फर्म, उद्योग या व्यापारिक इकाई में तेजी व मंदी की विवेचना होती है। समष्टि अर्थशास्त्र के द्वारा सम्पूर्ण आर्थिक मंदी का तथा आर्थिक तेजी का स्पष्टीकरण किया जाता है। 
उपभोक्ता या फर्म को सर्वोत्तम बिन्दु तक पहुँचाने में व्यष्टि अर्थशास्त्र सहायता पहुँचाता है।सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था को सर्वोत्तम बिन्दु तक पहुँचाने में समष्टि अर्थशास्त्र विशेष सहायक होता है।
व्यष्टि अर्थशास्त्र का क्षेत्र सीमान्त विश्लेषण आदि पर आधारित नियमों तक सीमित है।समष्टि अर्थशास्त्र का क्षेत्र राष्ट्रीय आय, पूर्ण रोजगार, राजस्व आदि सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था से सम्बन्धित समस्याओं के विश्लेषण से व्यापक है। 
व्यष्टि अर्थशास्त्र एक मात्र व्यक्तिगत समस्याओं का ही समाधान प्रस्तुत करता है।समष्टि अर्थशास्त्र सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था की समस्याओं का विश्लेषण कर समाधान प्रस्तुत करने का प्रयास करता है।
व्यष्टि अर्थशास्त्र केवल एक स्थान विशेष के लिए ही उपयोगी है।समष्टि अर्थशास्त्र की अन्तर्राष्ट्रीय उपयोगिता है।
व्यष्टि अर्थशास्त्र कीमत विश्लेषण से सम्बन्ध रखता हैं।समष्टि अर्थशास्त्र का लक्ष्य आय का विश्लेषण करना है।
व्यष्टि अर्थशास्त्र व्यक्तिगत कीमत, उत्पादन, उपभोग आदि की ओर निर्देश देता है।समष्टि अर्थशास्त्र सामान्य कीमत स्तर, राष्ट्रीय आय और सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था की ओर निर्देश देता है।

व्यष्टि अर्थशास्त्र क्या है

हिन्दी भाषा का शब्द ‘व्यष्टि अर्थशास्त्र' अंग्रेजी भाषा के शब्द माइक्रो, ग्रीक भाषा के शब्द माइक्रोस का हिन्दी रूपान्तरण है। व्यष्टि से अभिप्राय है - अत्यन्त छोटी इकाई, दस लाखवाँ भाग, अर्थात् व्यष्टि अर्थशास्त्र का संबंध अध्ययन की सबसे छोटी इकाई से है। 

 व्यष्टि अर्थशास्त्र के अन्तर्गत वैयक्तिक इकाइयों जैसे - व्यक्ति, परिवार, उत्पादक फर्म, उद्योग आदि का अध्ययन किया जाता है। व्यष्टि अर्थशास्त्र की इस रीति का प्रयोग किसी विशिष्ट वस्तु के कीमत निर्धारण, व्यक्तिगत उपभोक्ताओं तथा उत्पादकों के व्यवहार एवं आर्थिक नियोजन, व्यक्तिगत फर्म तथा उद्योग के संगठन आदि तथ्यों के अध्ययन हेतु किया जाता है। अधिक जानकारी के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे। व्यष्टि अर्थशास्त्र क्या है

समष्टि अर्थशास्त्र क्या है

समष्टि अर्थशास्त्र में अर्थव्यवस्था का अध्ययन समग्र रूप से किया जाता है। उदाहरण के लिए, कुल राष्ट्रीय आय, कुल माँग, कुल पूर्ति, कुल बचत, कुल विनियोग, पूर्ण रोजगार इत्यादि। समष्टि अर्थशास्त्र, आर्थिक ज्ञान की वह शाखा है। जो सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था से संबंधित बड़े योगों व औसतों का, उनके व्यवहार एवं पारस्परिक संबंधों का अध्ययन करती है। 

इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि समष्टि अर्थशास्त्र विशिष्ट इकाइयों का अध्ययन न करके, सम्पूर्ण अर्थव्यवस्था के कुल योगों का अध्ययन करता है। अतः इसे कुल योग संबंधी अथवा सामूहिक अर्थशास्त्र भी कहते हैं। अधिक जानकारी के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे। समष्टि अर्थशास्त्र क्या है